MP में फरारी काट रहे दो आरोपियों को राजस्थान पुलिस ने किया गिरफ्तार

राजस्थान में 5 दिन पहले चलाई थी गोली

इंदौर, आकाश धौलपुरे। राजस्थान के बूंदी में एक ढाबे वाले पर जानलेवा हमला करने वाले दो बदमाशों को इंदौर क्राइम ब्रांच (indore crime branch) और राजस्थान पुलिस की संयुक्त टीम ने पकड़ा है। यह दोनों आरोपी इंदौर में पिछले 5 दिनों से फरारी काट रहे थे। तभी मुखबिर द्वारा इंदौर क्राइम ब्रांच को इस बात की जानकारी हाथ लगी तो क्राइम ब्रांच और राजस्थान पुलिस ने इंदौर में फरारी काट रहे दोनो बदमाशो को गिरफ्तार कर लिया है। जानकारी के मुताबिक दोनों ही आरोपियों के रिश्तेदार राजस्थान पुलिस में पदस्थ है।

यह भी पढ़े…सागर : मतदाता के वोट से जब नही हो पाया फैसला तो मासूम कन्या ने चुना सरपंच, जानें कैसे ?

बता दें कि 5 दिन पहले राजस्थान के बूंदी में कोटा रोड़ स्थित एक ढाबा संचालक पर दोनों आरोपियों ने पिस्टल से जान से मरने की नियत से हमला किया था। क्राइम ब्रांच इंदौर की गिरफ्त में आने के बाद दोनों आरोपियों ने घटना को अंजाम देना स्वीकार किया। और बताया कि वो राजस्थान से फरार होकर इंदौर जिले में छुपाकर फरारी काट रहे थे।

MP में फरारी काट रहे दो आरोपियों को राजस्थान पुलिस ने किया गिरफ्तार

यह भी पढ़े…IND vs ENG 2nd ODI : रोहित शर्मा ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का किया फैसला

मिली जानकारी के मुताबिक बूंदी राजस्थान के केशवराय पाटन थाना क्षेत्र में स्थित ढाबा संचालक से खाना खाने के दौरान विवाद किया था। विवाद के बाद दोनों बदमाश जान लेने की नीयत से फायर कर भाग खड़े हुए। जिसके बाद बूंदी की पाटन पुलिस ने फरियादी की शिकायत पर धारा 307 के तहत दोनों आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया था।

MP में फरारी काट रहे दो आरोपियों को राजस्थान पुलिस ने किया गिरफ्तार

यह भी पढ़े…जब घूमने निकला डॉगी तो की ये हरकत, देखने लगे लोग

बदमाशों के नाम कमल सुमन पिता अशोक निवासी पुलिस लाइन, जिला कोटा, राजस्थान और मुकुल सिंह पिता गजेंद्र निवासी सिटी पुलिस लाइन नया गांव,जिला कोटा, राजस्थान में बताये जा रहे है। कोटा में रहने वाले दोनों ही आरोपियों को अग्रिम कार्रवाई के लिए राजस्थान पुलिस को सौंप दिया गया है। इंदौर क्राइम ब्रांच पुलिस उपायुक्त निमिष अग्रवाल ने बताया कि बूंदी पुलिस को अवैध पिस्टल से फायर कर जानलेवा हमला करने वाले 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। इंदौर पुलिस ने मुखबिर तंत्र को अलर्ट कर रखा था, जिसके बाद दोनों को इंदौर के एक कैफे से पकड़ा गया, और राजस्थान की बूंदी पुलिस को सौंप दिया गया है। वहीं राजस्थान पुलिस दोनों आरोपियों को लेकर जा चुकी है।