इंदौर में छापे जा रहे थे नकली नोट, एसटीएफ ने किया पर्दाफ़ाश

STF-caught-gang-made-fake-notes-in-indore

इंदौर। आकाश धौलपुरे।

फाइनेंस कम्पनी चलाने की आड़ में नकली नोट बनाने का मामला पकड़ा गया है। एसटीएफ इंदौर की टीम ने तीन आरोपियों से 1.83 लाख के नकली नोट बरामद किये है। नकली नोट बनाने में प्रयुक्त प्रिन्टर भी पुलिस ने जब्त किया है। एसपी एसटीएफ गीतेश गर्ग ने बताया कि सहायक उप निरीक्षक अमित दीक्षित को मुखबिर द्वारा सूचना प्राप्त हुई थी कि इन्दौर के आर.एन.टी.मार्ग स्थित शाम टॉवर की दूसरी मंजिल पर देवास के युवकों द्वारा फायनेन्स कम्पनी की आड में नकली नोटो का बडा कारोबार किया जा रहा है और इन रूपयो को आसपास के बाजारों में चलाकर ये आरोपी टाटा नेक्सॉन गाडी में अय्याशी कर रहे है। 

इस पर दबिश देकर रूद्र चोैहान पिता चंदर सिंह चौहान उसके साथी भोला चौहान उर्फ देवेन्द्र चौहान पिता गणेश चौहान और दिलीप चौहान पिता मांगीलाल चौहान निवासी देवास व इटावा के कब्जे से कुल 1,83,600 रूपयें के नकली नोट बरामद कर इन्हें हिरासत में लिया गया। पुलिस टीम को देखते ही इनके साथी दिलीप चौहान ने झोले में रखे हुए नोटो को जलाने का प्रयास किया जिसे तत्परता से टीम द्वारा बुझाया गया एवं जाली नोटो को जप्त किया गया। जाली नोट को छापने में प्रयुक्त कलर प्रिन्टर भी जप्त किया गया। 

आरोपी रूद्र चौहान की जामा तलाशी लिये जाने पर उसके पर्स से तीन अलग अलग नम्बर्स के पैन कार्ड भी बरामद हुए जिसमें सभी में आरोपी रूद्र चौहान का फोटो होकर नाम बिरजू चौहान एवं रूद्र चौहान तथा जन्म दिनांक अलग-अलग होना पाया गया है। आरोपी रूद्र चौहान ने पूछताछ पर बताया कि उसका साथी दिलीप चौहान ईटावा में तांत्रिक क्रिया करता है। इनके द्वारा तांत्रिक क्रियाओं में प्रयुक्त होने वाली नागमणि खरीदने के लिए 11 लाख के जाली नोट तैयार किये थे, किन्तु सौदा नहीं हो पाया।