दो मुंहे सांपो की तस्करी करने वाली गैंग पर एसटीएफ ने कसा शिकंजा, 4 आरोपी गिरफ्त में

इंदौर, आकाश धौलपुरे। दो मुंहे सांपो की तस्करी करने वाले 4 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल, रेड सेंड बौआ प्रजाति के 5 सांप एसटीएफ ने जब्त किए है। बताया जा रहा है कि दो मुंहे सांपो का उपयोग तांत्रिक क्रियाओं में किया जाता है और तस्कर इन सांपो को करोड़ो रूपये में बेचा जाता है। बता दे कि इंदौर एसटीएफ ने बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए वन्यजीवो की तस्करी करने वाले चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

LIC Policy 2021 : हर दिन 130 रुपये निवेश कर पा सकते है 27 लाख, यहां देखें पूरी डिटेल्स

एसटीएफ ने आरोपियों के पास से 5 दो मुँहा सांप बरामद किए गए हैं पकड़े गए सांपों की कीमत 5 करोड़ रुपये से अधिक बताई जा रही है। दुर्लभ प्रजाति के दो मुँहे सांप भी एसटीएफ ने जब्त किए है जिनकी कीमत 5 करोड़ बताई जा रही है। दरअसल, इंदौर एसटीएफ इकाई को सूचना मिली थी कि कुछ युवक देवास जिले से इंदौर आकर दुर्लभ प्रजाति सांप की तस्करी करने वाले हैं। मुखबिर के द्वारा बताए गए हुलिए व बाइक नंबर के आधार पर तस्करों को रोका गया तलाशी में उनके पास से अलग-अलग बोरो में रखें 5 रेड सैंड बोआ प्रजाति के सांप बरामद किए गए। पकड़े गए आरोपियों ने बताया कि सांपों को जंगलों से पकड़ा था और महंगे दामों में बेचने की फिराक में घूम रहे थे।

मप्र स्विमिंग चैंपियनशिप: जबलपुर के कबीर कश्यप ने रचा इतिहास, गोल्ड-सिल्वर जीता एक साथ

आरोपियों ने अपना नाम विष्णु, राहुल, हरिओम व दयाराम बताया है। आरोपियों ने यह भी कबूला की इन सांपों की कीमत पांच करोड़ रुपए से अधिक की है और सांपों का उपयोग विभिन्न तरह की तांत्रिक क्रिया व दवाई बनाने में किया जाता है। ये ही वजह है कि बड़े पैमाने पर दो मुंहे सांपो की तस्करी होती है। एसटीएफ एसपी मनीष खत्री बताया कि फिलहाल, पुलिस मामला दर्ज कर आरोपियों से पूछताछ में जुट गई है और आरोपियों पर वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर सांपो को वन विभाग के सुपर्द किया जा रहा है।