चोरी की बाइक ऑन डिमांड, पुलिस के हत्थे चढ़ा गिरोह

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट।  इंदौर पुलिस के हाथ ऐसी वाहन चोर गैंग लगी है जिसके कारनामे देखकर सुनकर पुलिस भी हैरान रह गई, गाड़ी ऑन डिमांड यह चोर गिरोह उपलब्ध करवाता था, पुलिस के हाथ लगा गैंग का सरगना और उसका गुर्गा ऑन डिमांड बाइक चोरी करते थे। कस्टमर जिस कंपनी, मॉडल और हॉर्स पावर की बाइक की डिमांड करते, गैंग वही चुराकर ग्राहक को सप्लाई करती थी। गैंग इतनी शातिर थी कि यह इसके सदस्य  100 किमी दूर पीपलरावां (देवास) से इंदौर तक बस या कार से चोरी करने आते थे। एक बार डिमांड आने के बाद गिरोह एक साथ 8 से 10 गाड़ियां चुरा ले जाते थे ग्राहकों को डिमांड के साथ सप्लाई की जाती थी पुलिस ने गुर्गे योगेश हाड़ा के बाद सरगना सचिन कंजर को भी अरेस्ट कर लिया है। सरगना पीपलरावां के पूर्व पार्षद भरत का बेटा है। सरगना पीपलरावां के कंजर डेरे से पकड़ा गया। उसने डेढ़ साल में इंदौर से 1000 गाड़ियां चुराने की बात स्वीकार की है। बताया कि उनका गिरोह चोरी की गाड़ियां गड्‌ढों या झाड़ियों में छिपा देता था। बाद में गैरेज संचालक और मैकेनिक को पांच से आठ हजार रुपए में पार्ट्स या पूरी बाइक बेच देते थे। डेरे से चोरी की 12 गाड़ियां बरामद हुई हैं। गिरोह के अब भी दस से ज्यादा बदमाश फरार हैं।

यह भी पढ़े.. CBSE Board Exam 2022 : जल्द जारी होंगे 10वीं-12वीं के परिणाम, टर्म 2 के लिए सैंपल पेपर जारी

बदमाशों का ऐसा नेटवर्क था की कुछ सदस्य पहले ग्राहकों से बात करते थे लिस्ट तैयार करते थे और फिर उस लिस्ट को सरगना को दिया जाता था। उसकी डिमांड पर सरगना और साथी कार या बस से इंदौर आते थे। इन्हें पुलिस चेकिंग की भी पूरी जानकारी रहती थी। पुलिस की चेकिंग किस स्थानों पर नहीं है या फिर किन स्थानों पर चेकिंग हटा दी गई है इसकी खबर मिलते ही यह शहर में प्रवेश करते थे।  पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र ने खुद इस मामलें पर नजर बनाई और टीम को तैनात किया, बताया जा रहा है कि विजय नगर, लसूड़िया, खजराना, तिलक नगर इलाकों से बाइक चोरी की घटनाएं सामने आ रहीं थी। खजराना और विजय नगर पुलिस के हत्थे गैंग का गुर्गा योगेश हाड़ा चढ़ गया। वह अपने तीन साथियों के साथ 2 बाइकों पर आ रहा था। पुलिस को देखकर हथियार लहराया। उसके तीन साथी भाग निकले। उसकी निशानदेही पर पीपलरावा में कंजर डेरे पर दबिश दी गई। सरगना सचिन को भी गिरफ्तार कर लिया गया। बताया जा रहा है की गिरोह के सदस्य गाड़ी चोरी करने के बाद घर लाकर सबसे पहले गाड़ी के इंजन और चेचिस का नंबर मिटाते है। फिलहाल पुलिस इनसे पूछताछ कर रही है।