रिक्त पदों पर भर्ती की मांग को लेकर छात्र आमरण अनशन पर

इंदौर। 18 दिनों तक अपनी मांगों को लेकर कृषि महाविद्यालय के मुख्य द्वार पर बैठे पूर्व छात्रों के सब्र का बांध टूट गया और अब खाली पड़े 5000 से ज्यादा रिक्त पदों पर नौकरी की मांग को लेकर वो आमरण अनशन पर बैठ गए हैं । दरअसल इंदौर सहित 12 कृषि महाविद्यालय के छात्रों को वर्तमान सरकार और पूर्व सरकार से शिकायत है कि जब हजारों की संख्या में पद अलग-अलग कैटेगरी के कृषि के क्षेत्र में रिक्त पड़े हैं तो शासन क्यों उन पदों पर नियुक्तियां नहीं कर रहा है। यही मांग लेकर समस्त कृषि महाविद्यालयों ने वर्तमान सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए 11 फरवरी से आंदोलन की राह पकड़ी थी और अब समस्त 12 कृषि महाविद्यालय में छात्र आमरण अनशन पर बैठ गए हैं

आपको बता दें की कृषि के क्षेत्र में अलग-अलग कैटेगरी में तकरीबन 5000 से ज्यादा पद रिक्त हैं और अब महाविद्यालयों से पास हुए छात्र शिक्षा पूरी कर लेने के बाद अब नौकरी की मांग कर रहे हैं। साल 2008 से अभी तक पूर्व और वर्तमान सरकार ने कोई भर्ती नहीं की है। इसीलिये इंदौर के कृषि महाविद्यालय में 3 छात्र अजय गांगले,देवेंद्र जाट और लक्षमण आमरण अनशन पर बैठ गए हैं। छात्रों का कहना है की जब तक सरकार कोई लिखित में जवाब नहीं देती है, अनशन जारी रहेगा।