पूर्व सांसद

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर (Indore) में ऐहतियातन आज रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू (curfew) लागू किया जा रहा है। लेकिन इसके पहले ही कोरोना (corona) की रडार पर रह चुके इंदौर में शुक्रवार को बड़ा कोरोना विस्फोट  हुआ है।

दरअसल, कोरोना की तीसरी लहर की चपेट में आ चुके इंदौर में शुक्रवार को 492 नए पॉजिटिव केस सामने आए हैं और 3 लोगो की मौत भी हो गई है। फिलहाल, अकेले इंदौर जिले में अब तक कोरोना के कुल 37115 लोग कोरोना संक्रमण का शिकार हो चुके है जिनमें से 33693 लोग ठीक हो चुके है इसके अलावा कुल पॉजिटिव मरीजो में से 729 लोगो की मौत हो चुकी है। वर्तमान में इंदौर में 2693 कोविड मरीजो का इलाज जारी है।

इंदौर सहित प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए सीएम शिवराज ने समीक्षा बैठक ली थी जिसमे इंदौर के संबंध में भी सिरे से चर्चा हुई थी। इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने तो शुक्रवार को साफ कर दिया था लोगो को कोरोना के प्रति सचेत हो जाना चाहिये और मास्क पहनने व सोशल डिस्टेंसिंग सहित सभी कोविड नियमों का पालन कड़ाई से करना चाहिए। वही इंदौर में अब मास्क नही पहनने वालो पर स्पॉट फाइन लगाना फिर शुरू हो किया जा चुका है। नगर निगम ने शुक्रवार को करीब 350 से ज्यादा लोगो पर स्पॉट फाइन किया है।

वैवाहिक कार्यक्रम सहित अन्य आयोजन हो सकते है प्रभावित

कोरोना की तीसरी लहर का सबसे बड़ा प्रभाव लग्नसरा पर पड़ेगा। दरअसल, देव उठनी ग्यारस से शुरू होने वाले वैवाहिक और धार्मिक आयोजनों पर कुछ प्रतिबंध लग सकते हैं क्योंकि लोगो की भीड़ यदि आयोजनों मे रही तो कोरोना बेकाबू हो सकता है। लिहाजा, इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह जल्द ही जनप्रतिनिधियों के साथ आपदा प्रबंधन समिति की बैठक लेकर कुछ कड़े फैसले ले सकते है ताकि कोविड की तीसरी लहर से लोगो का बचाव किया जा सके। इधर, शहर की 56 दुकान के व्यापारियों ने तो कोरोना की रफ्तार को देखते हुए पहले से ही रात 9 बजे बाजार बंद करने की घोषणा कर दी थी।

कोविड की वैक्सीन आने के पहले लोगो के लिए कोरोना की तीसरी लहर का सामना करना एक चुनौती होगा क्योंकि जानकार मानते है कि सर्दी के असर के साथ ही कोविड – 19 की रफ्तार बढ़ सकती है।