बेटमा क्रिकेट विवाद को लेकर कांग्रेस ने IG से मुलाकात कर सौंपा ज्ञापन, एक पक्षीय कार्रवाई पर उठाए सवाल

कांग्रेस (Congress) ने विवाद के दौरान 28 लोगों पर पुलिस द्वारा प्रकरण दर्ज किये जाने को लेकर इंदौर(Indore) आईजी हरिनारायणचारि मिश्र से मुलाकात की और ज्ञापन सौंपा है।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। जिले के बेटमा थाना क्षेत्र के मंडी प्रांगण में सोमवार को प्लास्टिक बॉल क्रिकेट टूर्नामेंट(cricket Tournament)  के दौरान शुरू हुए विवाद पर अब सियासी रंग चढ़ने लगा है। दरअसल, कांग्रेस (Congress) ने विवाद के दौरान 28 लोगों पर पुलिस द्वारा प्रकरण दर्ज किये जाने को लेकर इंदौर(Indore) आईजी हरिनारायणचारि मिश्र से मुलाकात की और ज्ञापन देकर मांग की है कि मामले में एक पक्षीय कार्रवाई की गई जबकि तथ्यों के आधार पर पुलिस को पूरे मामले की तफ्तीश करने के बाद प्रकरण दर्ज करना था। बता दें कि क्रिकेट(Cricket) का विवाद इतना बढ़ गया था कि दो अलग-अलग पक्ष आमने सामने हो गए थे और मौके पर पथराव जैसी स्थिति निर्मित हो गई थी।

बुधवार को इंदौर IG से मिले कांग्रेस(Congress) के प्रतिनिधिमंडल में पूर्व मंत्री और विधायक जीतू पटवारी, विधायक संजय शुक्ला और विशाल पटेल भी मौजूद थे। शहर कांग्रेस अध्यक्ष विनय बाकलीवाल ने बताया कि क्रिकेट के खेल में बेटमा में बच्चों में आपस मे वाद विवाद हुआ था। लेकिन, उस वाद-विवाद और क्रिकेट खेल साम्प्रदायिक करने का प्रयास किया गया और एक पक्ष के करीब 28 बच्चों पर कार्रवाई कर दी जाती है और दूसरे पक्ष पर कोई कार्यवाई नहीं की जाती है। इसी के चलते कांग्रेस ने आईजी को ज्ञापन सौंपा है और मांग की है कि ऐसी दोषपूर्ण कार्यवाई न कि जाए बल्कि दोनों पक्ष पर कार्रवाई की जाए। कांग्रेस अध्यक्ष बाकलीवाल ने बताया कि 28 लड़कों पर की गई कार्रवाई को वापस लिया जाए या दूसरे पक्ष के भी 28 लोगो पर एफआईआर दर्ज की जाए। कांग्रेस की माने तो आईजी इंदौर ने उनकी बात मानी है और उन्होंने तत्काल एसपी को कार्रवाई के निर्देश दिए है।

ये भी पढ़े- Umaria : स्वच्छता सर्वेक्षण के नाम पर किया जा रहा फर्जीवाड़ा, सर्वे टीम की खुली पोल

इधर, इस मामले में कांग्रेसियों के साथ पुलिस, प्रशासन और सरकार द्वारा की जा रही कार्रवाई पर पूर्व मंत्री और विधायक जीतू पटवारी ने प्रदेश सरकार और सीएम शिवराज सिंह चौहान पर सवाल उठाए और कहा कि एक तरफ तो सीएम माफियाओं और अपराधियों को गाड़ देने और भाग जाने की बात कहते है। वहीं दूसरी ओर लगातार मध्यप्रदेश हत्या और अपराधों के मामले में रिकॉर्ड बनाता नजर आ रहा है। इसके राजनीतिक द्वेषभाव से विपक्षी पार्टियों के कार्यकर्ताओं पर कार्रवाई करना दुर्भाग्यपूर्ण है। पटवारी ने कहा कि उन्होंने छतरपुर में ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष इंद्र प्रताप सिंह की हत्या और सुहागपुर पिपरिया के अध्यक्ष पुष्पराज सिंह के 5 दिन से जेल में बंद होने की बात कहते हुए कहा कि बीजेपी का प्रशासन अपराधियों और अपराध को सरंक्षण दे रहा है। पूर्व मंत्री ने कहा कि जनता एक एक चीज को देख रही है प्रदेश के अपराधियों की राजधानी बना दिया गया है। उन्होंने कहा सीएम शिवराज चौहान इतिहास में याद रखे जाएंगे जिन्होंने लोकतंत्र की हत्या की और सत्ता में जबर्दस्ती बैठे और अब अपराधियों को सरंक्षण देने लगे है और अपराध के खिलाफ बयान देते है जो बीजेपी की कथनी और करनी में अंतर बताता है।

ये भी पढ़े- New Education Policy: शिवराज सिंह चौहान का बड़ा ऐलान- छात्रों को दी जाएगी सम्मान निधि

वहीं भूमाफियाओं पर कार्रवाई को लेकर पूर्व मंत्री पटवारी ने कहा कि कमलनाथ जी ने एक रास्ता दिखाया और शिवराज जी ने उसको अपनाया। उन्होंने कहा कि भूमाफियाओं से पीड़ित लोगों को न्याय मिलना चाहिए। लेकिन, अब दो तरह के माफिया हो गए है एक बीजेपी की वाशिंग मशीन से धुले उन्हें डुबोकर बाहर लियाओ और दूसरे अन्य माफिया पर कार्रवाई करो। उन्होंने कहा कि एक मुख्यमंत्री(Chief Minister) और प्रशासन दो आंखों से नही देख सकता है कार्रवाई होनी चाहिये, सब पर होनी चाहिये और न्याय मिलना चाहिये।

इधर, बेटमा मामले को लेकर इंदौर आईजी हरिनारायणचारि मिश्र ने बताया कि उनके पास एक प्रतिनिधिमंडल आया था और बेटमा में हुए विवाद के मामले में वीडियो(Video) फुटेज के आधार पर जिनकी सक्रिय संलिप्तता होगी उन पर कार्रवाई की जायेगी और किसी व्यक्ति का नाम कही तथ्यों की चूक के कारण आ गया है तो पुलिस उसकी आगे विवेचना में विचार करेगी और सिर्फ उन्हीं लोगों पर कार्रवाई करेगी जो सक्रिय रूप संलिप्त रहे है।