इंदौर।आकाश धौलपुरे।

देश के टॉप 3 कोरोना हॉटस्पॉट में से एक इंदौर शहर में कोरोना पॉजिटिव मरीजो के साथ ही मौत का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है। ऐसे में अंतिम संस्कार को लेकर उठ रहे सवालो पर आज इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि वे जल्द ही ICMR की गाइडलाइन के तहत निर्देश जारी करेंगे।

दरअसल, इंदौर में सोमवार को आई रिपोर्ट के मुताबिक जिन 4 लोगो को मौत की पुष्टि कोरोना से हुई है उनमे से 3 की मौत रिपोर्ट आने के पहले ही जो चुकी थी। अब तक इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 13 तक पहुंच चुकी है। दरअसल, मीडिया ने आज जब सवाल उठाया कि नार्म्स का बिना पालन किये शवो को दफनाया व जलाया जा रहा है। इस पर कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि वो जल्द ही आदेश जारी करने वाले है। उन्होंने साफ किया कि ICMR गाइड लाइन और केंद्र सरकार के निर्देश के मुताबिक दफनाने व जलाने की अनुमति है और अंतिम संस्कार धर्म के अनुसार किया जाता है। उन्होंने बताया की गाइड लाइन के तहत जलाने और दफनाने की अनुमति है वही गाइड लाइन में लिखा है कि कोविड संक्रमित बॉडी का प्रोटेक्शन पूरा होना चाहिए और जमीन में अधिक गहराई तक दफनाना जरूरी है।

वही जब इंदौर कलेक्टर से पूछा गया कि मृत व्यक्ति की रिपोर्ट आने के पहले ही अंतिम संस्कार की अनुमति दी जा रही है तो कलेक्टर मनीष सिंह ने टाटपट्टी बाखल का उदाहरण देकर कहा कि वहा ऐसा ही हुआ था जिसके चलते क्षेत्र से बड़ी संख्या में कोविड मरीज सामने आ रहे है और ये ही वजह है कि वो सरकारी व निजी अस्पताल व उनके डॉक्टर्स ब्रीफ कर बता रहे है किसी भी मामले में लापरवाही बर्दाश्त नही की जाएगी।

फिलहाल, इंदौर में आने वाले दिनों में क्या हालात रहेगें ये तो वक्त पर ही पता चल पाएगा लेकिन ये बात साफ है कि ICMR के दिशा निर्देशों का पालन कर ही कोरोना ग्रसित शवो को धार्मिक मान्यता के अनुसार अंतिम संस्कार किया जा रहा है।