इंदौर, आकाश धोलपुरे। प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना के साइड इफ़ेक्ट सामने आ रहे है ये ही वजह है कि लूट जैसी वारदात को शातिर बदमाशों द्वारा अंजाम दिया है जा रहा है।  कभी बैंक में डकैती, तो कभी एटीएम को लूट के मामले सामने आ रहे है।

इंदौर में कोविड – 19 के उल्टे प्रभाव के साथ ही 3 माह से ज्यादा समय तक लगे लॉक डाउन का नकारात्मक असर देखने को मिल रहा है, जिसकी आशंका पुलिस व प्रशासन ने जताई थी। लूट का ताजा मामला इंदौर के चोइथराम मंडी में स्थित जेसिका मिल्क पार्लर सांची पॉइंट का है, जहां गुरुवार रात को लखन नामक गुंडे ने अपने एक अन्य साथी के साथ सांची पाइंट पर पहुंचा और लखन ने अपने साथी को बाहर खड़ा किया और दुकान के अंदर जाकर चाकू दिखाकर रुपए लूट लिए।

 

सांची पाइंट संचालक रोहित गुप्ता की माने तो लखन नामक बदमाश अंदर आया और उसने आते ही चाकू दिखाकर कहा कि वो दोस्तों की तरह व्यवहार करें और चुपचाप गल्ले में रखे रुपये दे दे। वहीं उसने ये भी धमकी दी बाहर खड़े साथी के पास गाड़ी में एक पिस्टल भी है। इस मामले की शिकायत दुकान संचालक ने राजेन्द्र नगर थाने पर की और पुलिस को सीसीटीवी फुटेज भी उपलब्ध कराए।

इधर, राजेंद्र नगर पुलिस ने गुंडे लखन के साथी अजय को गिरफ्तार कर लिया है। वही लखन की तलाश में पुलिस जुट गई है। राजेंद्र नगर थाना प्रभारी अमृता सोलंकी ने बताया की घटना चोइथराम मंडी स्थित सांची पाइंट की है। जहां हम्माली करने वाले लखन ने दुकान से 6 हजार से ज्यादा रुपए लूट लिए। पुलिस की माने तो एक ही जगह काम करने के चलते फरियादी और आरोपी एक दूसरे को जानते थे और ये ही वजह है कि आरोपी आसानी से लूट को अंजाम दे सका।

फिलहाल, पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर कार्रवाई शुरू कर दी है और मुख्य आरोपी लखन के साथी अजय को गिरफ्तार भी कर लिया, वही लखन अभी फरार है।
आर्थिक राजधानी इंदौर में बढ़ रही लूट की वारदातो पर अंकुश लगाने के लिए अब पुलिस को नया एक्शन प्लान तैयार करना चाहिए ताकि अपराधी, वारदात को अंजाम देने से पहले खौंफजदा हो जाए और वो अपराध को अंजाम देने से पहले 10 बार सोचे।