कोरोना को लेकर इंदौर मेडिकल कॉलेज की डीन की गंभीर लापरवाही आई सामने

इंदौर।आकाश धोलपुरे।

कोरोना के संक्रमण से जूझ रहे इंदौर के मामले में एमजीएम मेडिकल कॉलेज की डीन डा. ज्योति बिंदल की गंभीर लापरवाही सामने आई है। दरअसल भोपाल एम्स में भेजे गए कोरोना संक्रमण के संभावित मरीज़ों के सैंपल में से 17 सैंपल पॉजिटिव पाए गए हैं जिसकी पुष्टि खुद इंदौर के सीएमएचओ डॉ प्रवीण जङिया ने की है। इस खबर के आने के बाद इंदौर में हड़कंप मच गया है लेकिन इसके उलट इंदौर की मेडिकल कॉलेज की डीन डा. ज्योति बिंदल इस पर पर्दा डालने की कोशिश कर रही है और उनका कहना है कि उनके पास एम्स से अभी तक कोई ऐसी सूची नहीं आई जिसके आधार पर वे कह सकें कि 17 मरीज़ पॉजिटिव और मिले हैं।

इस पूरे मामले में सबसे बड़ा सवाल यह है कि जब ज़िला स्वास्थ्य अधिकारी इस बात की पुष्टि कर रहे हैं कि अब इंदौर में इन 17 पॉजिटिव मरीज़ों के साथ कुल पॉजिटिव मरीज़ों की संख्या 42 हो गई है तो फिर आखिरी डीन इससे इन्कार क्यों कर रही हैं। डीन इस पूरे मामले में तकनीकी त्रुटि होने की बात भी कर रही है ।अगर डीन की बात को भी सही मान लिया जाए तो तकनीकी त्रुटि का अर्थ है या तो सैंपल लेने में गड़बड़ी हुई या सैंपल की जांच में और आखिर इतनी गंभीर गड़बड़ी किसने की ,यह भी जांच का विषय है और क्या दोषियों पर कार्रवाई होगी यह भी। व्यवस्थाओं को सुधारने के बजाय गलियों पर पर्दा डालने की कोशिश डीन को भारी पड़ सकती है।