आज मिल सकती है इंदौर को स्वाइन फ्लू के पहले सैम्पल की जांच रिपोर्ट

इंदौर| प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या अक्सर हर वर्ष बारिश के बाद और सर्दी की शुरुआत में बढ़ जाती है। जिसके बाद मरीजो में एच1एन1 वायरस की जांच के सैम्पल भोपाल भेजे जाते है। जहां भोपाल के हमीदिया अस्पताल और एम्स की वायरोलॉजी लैब में स्वाइन फ्लू की जांच की जाती रही है। इन रिपोर्ट के आने में देरी के चलते कई बार मरीजो को जान से भी हाथ धोना पड़ता था और ये ही वजह है कि बीते कई सालों से स्वाइन फ्लू जैसी गम्भीर जानलेवा बीमारी के वायरस की जांच इंदौर में ही कराने की मांग उठने लगी थी। इसके बाद 2 साल पहले ही इंदौर में स्वाइन फ्लू की जांच के लिए लैब की मंजूरी मिली थी जिसका भूमि पूजन 2019 फरवरी में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विजय लक्ष्मी साधौ ने किया था। हालांकि 2 माह देरी के बाद आखिरकार 8 महीने में एमजीएम मेडिकल कॉलेज में लैब शुरू हो गई है और 30 वर्षीय  संदेही महिला मरीज का सैम्पल मंगलवार को एमजीएम मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबायोलॉजी विभाग को भेजी गई है जिसकी रिपोर्ट सम्भवतः आज आ जायेगी। 

हालांकि पहले सैम्पल के मामले में स्वास्थ्य विभाग और डॉक्टरों ने सावधानी बरतते हुए सैम्पल इंदौर की लैब सहित भोपाल भी भेजे है ताकि रिपोर्ट की सत्यता का आंकलन किया जा सके और ये सिलसिला आने वाले कुछ दिनों तक बना रहेगा। इंदौर में लैब शुरू हो जाने 24 घण्टे या उससे भी कम समय रिपोर्ट मिल जाएगी जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग का 7 दिन तक का इंतजार समाप्त हो जाएगा जो कि मरीजो के लिहाज से अधिक बेहतर होगा क्योंकि कई दफा रिपोर्ट में देरी की वजह से गम्भीर परिणाम भी मिल चुके है। फिलहाल, ये माना जा सकता है कि अब इंदौर को एच1एन1 वायरस की जांच के लिए जबलपुर और भोपाल पर निर्भर नही रहना पड़ेगा क्योंकि अब इसकी जांच के लिए इंदौर में शुरुआत हो चुकी है।