इंदौर में कोरोना के बेकाबू हालात, 1700 से अधिक नए संक्रमण के मामले

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना बेकाबू है और ऐसे में चौंकाने वाले आंकड़े हर किसी को हैरत में डाल रहे है। इधर, पुलिस ने भी बढ़ते संक्रमण के चलते सख्ती अपना रखी है और बेहद जरूरी काम से घर से बाहर निकलने वालों को ही छूट दी जा रही है। वहीं ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए लोगों की लंबी कतारें बता रही है कि ऑक्सीजन की किल्लत है। इसके अलावा शहर के रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वालो ने इंसानियत को शर्मसार कर दिया है जिसके चलते पुलिस, एसटीएफ और खुफिया विभाग ऐसे लोगो पर कड़ी कार्रवाई कर रहा है।

कोरोना के बीच एआर रहमान, प्रसून जोशी का गीत “हम हार नहीं मानेंगे” दे रहा नई ऊर्जा

बुधवार रात को जारी किए गए ताजा सरकारी आंकड़ों के मुताबिक शहर में 1781 नए कोविड मरीज सामने आए हैं। अब शहर में अस्पतालों और होम आइसोलेट होकर 12738 मरीजों का इलाज जारी है। इधर, मौत के आंकड़ो में भी तेजी से वृद्धि हो रही है। ताजा सरकारी आंकड़ों के अनुसार कोरोना की चपेट में आने के बाद हर 100 में से 1 व्यक्ति की मौत हो रही है। कोविड के नोडल अधिकारी डॉ. अमित मालाकार की मानें तो वर्तमान में फर्टिलिटी रेट 1.1 प्रतिशत तक जा पहुंची है। वही रिकवरी रेट गिरकर 85.6 प्रतिशत तक आ गई है।

इधर, हालात बेकाबू है उधर अप्रैल के अंत और मई माह में शादी ब्याह के आयोजन भी होने है। ऐसे में गुरुवार सुबह दशहरा मैदान चौराहे पर एक अजीब दृश्य देखने को मिला यहां एक माँ और बेटे अपने घर में हो रही शादी की परमिशन के लिए चेकिंग के दौरान खड़े टीआई गोपाल परमार के पास जा पहुंचे। जहां मौजूद वरिष्ठ फ़ोटो जर्नलिस्ट गोपाल वर्मा मौजूद थे। जिन्होंने इस दृश्य को अपने कैमरे में कैद कर लिया और परिजनों को समझाइश दी कि वो कलेक्टर स्तर पर परमिशन की गुहार लगाए लेकिन इस दौरान टीआई गोपाल परमार भड़क गए। हालांकि जैसे तैसे मामला शांत हो गया। फिलहाल, इंदौर में हालात बेकाबू है और हम आपसे अपील करते है अपनी व अपनों की जान की परवाह करते हुए लोग घरों से बाहर न निकले और कोरोना को लेकर सभी नियमों का पालन करें।