इंदौर में अपहरण की अनूठी वारदात, फिल्मी स्टाइल में वारदात को दिया था अंजाम

अब सीसीटीवी टीवी फुटेज के आधार पर पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई है।

इंदौर, आकाश धौलपुरे। इंदौर के चंदन नगर थाना क्षेत्र में अपहरण की एक ऐसी वारदात सामने आई है जिसमें एक मासूम बच्चे को बहला फुसलाकर एक अज्ञात बदमाश ने उठा लिया और फिर उसे चंदन नगर से यह कहकर धार नाके ले गया कि क्या उसे कोई कपड़े की दुकान पता है जहां से वो कपड़े खरीद सके। इसके लिए बकायदा मासूम आसिम पिता आरिफ़ मंसूरी को अज्ञात अपहरणकर्ता ने 20 रुपये का लालच भी दिया। इसके बाद जब बदमाश मासूम को धार नाके की कपड़ो की दुकान परले गया तो उसने फिल्मी स्टाइल में दुकानदार से कहा कपड़े दे दीजिए में पर्स भूलकर आ गया हूं और तब तक वो बच्चे को छोड़कर जा रहा है। लेकिन धार नाके की दुकान पर बदमाश की नही चली तो फिर वह आसिम को वहां से वैन में बिठाकर सदर बाजार के जूना रिसाला क्षेत्र में स्थित कपड़े की दुकान पर ले गया जहाँ आरोपी ने 4000 के कपड़े खरीद कर बच्चे को दुकान पर गिरवी रखा और मौके से भाग खड़ा हुआ। जब वो काफी देर तक नही लौटा सदर बाजार क्षेत्र के दुकानदार बच्चे को सदर बाजार थाने पहुंच गए। बताया जा रहा है कि सीसीटीवी में पूरी घटना कैद हो गई है और अब सीसीटीवी टीवी फुटेज के आधार पर पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई है।

यह भी पढ़े… प्रदेश में अभी खुले रहेगे स्कूल, समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने दिए निर्देश

दरअसल, यमला पगला दीवाना मूवी में कुछ इसी तर्ज पर धर्मेंद्र और बॉबी देओल एक बच्चे को दो हजार रुपये देकर ग्यारंटर के तौर पर छोड़ देते है और ज्वेलर्स को मूवी में 15 लाख की चपत लगा देते है। बस इसी तरह का ये पूरा मामला है जिसमे चंदननगर थाना क्षेत्र में ऑटो पार्ट्स कारोबारी आरिफ मंसूरी के परिवार में शादी थी। शादी की खरीदारी करने के लिए ऑटो पार्ट्स कारोबारी अपने बेटे असिम और पत्नी के साथ चंदननगर क्षेत्र में आया हुआ था। जैसे ही कारोबारी दुकान में सामान खरीदने के लिए गया उसी दौरान बच्चा असिम बाहर खेलने लगा तभी एक युवक वहां पहुंचा और बच्चे को खिलाने लगा और बातों में उलझाकर बच्चे को गाड़ी में बिठाया और पहले धारा नाके और फिर सदर बाजार लेकर पहुंचा ।दो दुकान घूमने के बाद आरोपी तीसरी दुकान पर पहुंचा और कपड़े की खरीदारी कर ली। जब दुकान संचालक ने कपड़े की खरीदारी के पैसे मांगे तो आरोपी ने पर्स घर पर भूलने की झूठी कहानी रची और पैसा घर से लाने का बोलकर जाने लगा। दुकानदार से बोला यह बच्चा असीम मेरा भतीजा है मैं घर से पैसे लेकर आता हूं तब तक इसका ध्यान रखना। काफी देर हो जाने के बाद आरोपी नहीं आया तो दुकान संचालक ने बच्चे से उसके चाचा के बारे में पूछा तो बच्चे ने बताया कि वह मेरे चाचा नहीं है तो दुकान संचालक के होश उड़ गए और वह सदर बाजार थाने पर बच्चे को लेकर पहुँचकर सूचना दी इधर, बच्चे की गुमशुदगी चंदन नगर थाने में पहले ही परिवार वालों ने दर्ज करवा चुके थे। बच्चे के फोटो सोशल मीडिया पर परिवार और पुलिस ने वायरल कर दिए थे। सदरबाजार पुलिस ने चंदननगर थाने पर संपर्क कर परिजनों को बच्चे को सौप दिया। वही आरोपी, बच्चे को ले जाते हुए सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हो गया है।

यह भी पढ़े…इंदौर में दिग्विजय सिंह ने युवक कांग्रेस के शिविर में आरएसएस पर जमकर साधा निशाना

इधर, पुलिस ने बच्चे से बहुत ही प्यार से पूछताछ की वही चंदन नगर थाना प्रभारी दिलीप पूरी ने बताया कि पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई है। इधर, मासूम असिम के पिता आरिफ मंसूरी की माने तो वो रविवार को बच्चे को नानी के घर छोड़ गए थे। बच्चा बाहर खेल रहा था तब ही 3 बजे बच्चे को कोई अज्ञात व्यक्ति अपने साथ ले गया। वही उन्होंने पूरी वारदात पर आश्चर्य जताया और पूरे मामले की जानकारी दी।