इंदौर में शराब की नई दुकान खुलने पर हुआ अनोखा विरोध, महिलाओं ने उठाई लाठी, जमकर लगाए नारें

मध्यप्रदेश के इंदौर (Indore) के जिंसी हाट बाजार में भी नई शराब दुकान खुलने का विरोध महिलाओं ने जमकर किया। विरोध प्रदर्शन के दौरान महिलाओं ने हाथों में लाठी और डंडे को हाथ में लेकर दुकान बंद करवाने की मांग की।

इंदौर, आकाश धौलपुरे। एक तरफ जहां पूरे देश में नई शराब नीति का विरोध किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ मध्यप्रदेश के इंदौर (Indore) के जिंसी हाट बाजार में भी नई शराब दुकान खुलने का विरोध महिलाओं ने जमकर किया। विरोध प्रदर्शन के दौरान महिलाओं ने हाथों में लाठी और डंडे को हाथ में लेकर दुकान बंद करवाने की मांग की। इस दौरान बच्चों से लेकर बुजुर्ग महिला ने भी जमकर विरोध किया। नई शराब दुकान खुलने का विरोध कर रहे लोगों का मानना है कि अगर शराब व्यापारी दुकान खोलने की जिद पर अड़े रहे तो उन्हें महिलाएं डंडे से सबक सिखायेंगी। मिली जानकारी के मुताबिक इसके पहले शराब दुकान मिस्त्री खाने मे संचालित हो रही थी, जिसे अब जिन्सी क्षेत्र में लाया जा रहा है, जिसके कारण आसपास रहने वाले वाले लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुँच चुका है।

यह भी पढ़े… विकास की राह पर MP, 13 रेलवे स्टेशनों को एयरपोर्ट की तर्ज पर किया जाएगा विकसित, मांगा प्रस्ताव

कि इंदौर का जिंसी हॉट बाजार क्षेत्र रहवासियों का सघन इलाका है जहां नई शराब कलाली खुल रही है। शायद इसी वजह है कि विरोधस्वरूप मंगलवार को बड़ी संख्या में क्षेत्र की महिलाएं विरोध करने पहुंची और अनूठे तरीके से विरोध का रुख अख्तियार कर एक स्वर में नारेबाजी भी की। हाथों में डंडे लिए बुजुर्ग, महिलाएं और बच्चों द्वारा पुरजोर विरोध किया जा रहा है। महिलाओं के मुताबिक नई शराब दुकान के आसपास मंदिर, मस्जिद और रहवासियों से भरा क्षेत्र है और ऐसी जगह शराब दुकान खुलेगी तो यहां पर महिलाएं, बहू और बेटियां असुरक्षित रहेगी और क्षेत्र के रहवासी शांति से घूम नहीं पाएंगे।

क्षेत्रीय लोगों की माने तो शराब दुकान खुलने से रोजाना क्षेत्र में विवाद की स्थिति निर्मित होगी। महिलाओं की माने तो जब तक जिला प्रशासन हमें लिखित में नहीं देता है कि यहां कलाली नहीं खुलेगी और उनका विरोध जारी रहेगा।
रहवासियों का कहना है कि नई शराब दुकान हटाने का आवेदन जिला प्रशासन को भी लिखित में दे चुके हैं, लेकिन अभी तक किसी तरह का आश्वासन नहीं मिला है। वहीं रहवासियों का कहना है कि क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों का भी सपोर्ट नहीं मिल रहा है। महिलाओं का कहना है कि वो जब तक धरने पर बैठें रहेगी जब तक कलेक्टर से लिखित में कोई आश्वासन उन्हें नहीं मिल जाता है। महिलाओं ने कहा कि अगर शराब व्यापारी जबरदस्ती दुकान खोलेंगे तो महिलाएं डंडे लेकर तैयार रहेगी। फिलहाल, रहवासी क्षेत्रों में नई शराब दुकानों के खुलने का सिलसिला जारी है। वहीं विरोध भी रहवासियों द्वारा किया जा रहा है।