CAA के दायरे में आने वाले देशों के बहुसंख्यक पर नहीं होता अत्याचार: वीएचपी अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष

इंदौर। आकाश धौलपुरे। 

इंदौर के एक निजी कार्यक्रम में शामिल हुए विश्व हिंदू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष वीएस कोकजे ने देश में सीएए के मुद्दे पर मीडिया से चर्चा की। इंदौर के गोयल नगर आयोजित लोकार्पण कार्यक्रम के दौरान आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी मौजूद थे। इस दौरान वीएचपी अध्यक्ष वीएस कोकजे से नागरिकता संशोधन विधयेक और सीएए के विरोध और समर्थन में चलाये जा रहे अभियान पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि झूठ के पैर नहीं होते हैं। उसे बहुत दिनों तक नहीं फैलाया जा सकता और अब धीरे धीरे लोगों को समझ में आ रहा है। लोग पढ़ रहे है कि कानून क्या है और किस मंशा से लाया गया है।

उन्होंने कहा कि,  ऐसे में लोग धीरे धीरे समझ रहे है। वहीं उन्होंने कहा कि उत्पात करने के लिए तो 10- 20 लोग भी काफी है बाकि 90 प्रतिशत जनता सब समझती है, क्या चल रहा है। वीएचपी अध्यक्ष ने कहा कि सीएए का कोई साम्प्रदायिक संबंध  नहीं है और एक भी उदाहरण कोई बता दे कि कोई मुसलमान को धार्मिक उत्पीड़न के कारण तीन देश (पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान) छोड़ना पड़े तो उसके लिए लड़ सकते हैं। लेकिन ऐसा कोई व्यक्ति नहीं हो सकता है क्योंकि धार्मिक उत्पीड़न तो 3 देशों में गैर मुस्लिमों का ही होगा। वही यूपी में फैली हिंसा के मामले पर उन्होंने कहा माना कि हिंसा का कारण एक ही है, कि देश मे दंगे कराना और फिर संघ परिवार को दोष देना और ऐसे लोग सफल नही हो पा रहे है। इसके अलावा वीएचपी प्रमुख ने ये भी साफ किया कि अयोध्या मंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आ चुका है और अब अयोध्या, 370, तीन तलाक मामले का फस्ट्रेशन सीएए पर निकाला जा रहा है क्योंकि उन मामलों में कोई कुछ नही कर पाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here