जब सड़क पर मिला एक रुपये का सिक्का जमा करवाने थाने पहुंचा मासूम, देखिए फिर क्या किया पुलिस ने

इंदौर के 6 साल का मासूम को रास्ते में 1 रुपए का सिक्का मिला। उसने घर जाकर अपने माता-पिता से कहा पापा थाने चलो, इस 1 रुपए के सिक्के को जमा करवा दें। जिसका है पुलिस अंकल उसे ढूढ़ कर लौटा देंगे।

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। बचपन कितना मासूम होता है, कि मन में न कपट होता है और न ही कोई लालच,  इंदौर में मासूम से जुड़ा दिलचस्प मामला सामने आया है,  जब 6 साल के  मासूम को रास्ते में 1 रुपए का सिक्का मिला।  बच्चा घर पहुंचा और उसने सिक्का अपने पिता के सामने रख दिया, पिता ने जब बच्चे से पूछा यह सिक्का कहां मिला तो बच्चे ने बताया कि सड़क पर और अब इसे लेकर थाने चलना है, मासूम इंदौर के विजय नगर के स्कीम-78 में रहने वाला अयांश धनोतिया है। वह रोज घर के पास मैदान में दोस्तों साथ खेलने जाता था बुधवार को भी खेलने गया घर वापस लौटते समय उसे सड़क पर एक रुपये का सिक्का पड़ा मिला, सिक्का लेकर मासूम घर पहुंचा और फिर पूरी बात पिता को बताई बच्चे ने अपनी बात पूरी की और तुरंत ही कहा पापा थाने चलो, इस 1 रुपए के सिक्के को जमा करवा दें। पिता ने बेटे को समझाने की कोशिश की लेकिन बेटा टस से मस नहीं हुआ, आखिरकार पिता को बेटे को लेकर थाने जाना ही पड़ा, जिसका है पुलिस अंकल उसे ढूढ़ कर लौटा देंगे। बच्चा अपने माता-पिता के साथ थाने आ गया, थाने में मौजूद स्टाफ को जब पता चला की बच्चा थाने क्यू आया है तो वह भी हैरान रह गए, बच्चे के इस भाव को देखते हुए  पुलिस ने उसके 1 रुपए  जमा कर लिए, लेकिन बच्चे की मासूमियत पर पुलिस भी फिदा हो गई, पुलिस ने उसे 51 रुपए देकर कहा कि बेटा तुमने बहुत अच्छा काम किया है, उसके बदले में यह 51 रुपये रखो और चॉकलेट खा लेना।

यह भी पढ़े.. बहुचर्चित भय्यू महाराज सुसाइड केस : शिष्या पलक, मुख्य सेवादार विनायक, ड्राइवर शरद को दोषी साबित

हालांकि जब मासूम ने जिद की तो  पिता राजेंद्र ने पहले उसे समझाया कि 1 रुपए से किसी का कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है। जिसका सिक्का है उसे ढूंढ़ना मुश्किल है, तुम इसे अपनी गुल्लक में डाल दो। लेकिन अयांश मानने को तैयार नहीं हुआ। फिर वह मां के पास पहुंचा। बोला- पापा मेरी बात नहीं सुन रहे। तब बच्चे की जिद के बाद माता पिता उसे विजय नगर थाने लेकर पहुंचे। थाने को पता चला तो आश्चर्य करने लगे पुलिस वाले थाने पर पिता राजेंद्र धनोतिया ने प्रधान आरक्षक राजेश कुमार को यह पूरा किस्सा सुनाया। थाने में मौजूद टीआई तहजीब काजी भी बच्चे की जिद देखकर हैरान रह गए,  प्रधान आरक्षक राजेश ने बच्चे से एक रुपया लिया। राजेश ने उसे को अपनी ओर से 51 रुपए दिए। पुलिस भी बच्चे का पुलिस के प्रति विश्वास देखकर मुस्कुराये बिना न रह सकी।