गुटखा किंग से इन्दौर प्रशासन में किसका था जबरदस्त कनेक्शन, कैसे लाकडाउन मे निकलते रहे ट्रक

इंदौर| आकाश धोलपुरे| करोड़ों की टैक्स चोरी मामले में गुटखा कारोबारी किशोर बाधवानी (Gutkha Kingh Kishore Wadhwani) से जुड़े कई तथ्य जांच में सामने आ रहे हैं| केंद्रीय जांच टीम की छापेमारी के बाद कई राज खुल रहे हैं| वहीं वाधवानी की गिरफ़्तारी के बाद इस खेल के तार अब इंदौर प्रशासन (Indore Administration) से जुड़ते नजर आ रहे है। सूत्र बतातें कि लॉकडाउन पीरियड (Lockdown) में वाधवानी की कलेक्टर मनीष सिंह (Collector Manish Singh) से अपने व अपने मातहतों के मोबाइल नंबरों से 180 बार बात हुई है। जिसका ब्यौरा डिपार्टमेंट के पास है। जिसके बाद अब जांच एजेंसियों ने कलेक्टर मनीष सिंह को चिट्‌ठी लिखकर पूछताछ शुरू कर दी है।

सांवेर में लॉकडाउन के दौरान भी उनकी फैक्ट्री निर्बाध चलती रही, इतना ही नहीं बल्कि ट्रकों से सामान की आवाजाही जारी रही, जिसको लेकर बड़े सवाल उठ रहे हैं| जानकार बताते हैं कि इस गोरखधंधे को इंदौर में जिला प्रशासन के शीर्ष अफसरों से लेकर नीचे तक के अमले की मिलीभगत से अंजाम दिया गया है| कलेक्टर के अलावा मध्य प्रदेश के जीएसटी (वाणिज्यकर) आयुक्त राघवेंद्र सिंह से भी बाधवानी की करीब 18 बार बात हुई है|

इंदौर कलेक्टर (Indore Collector) द्वारा 21 मई को जारी किया एक आदेश भी चर्चा में है, जिसमें जिला प्रशासन द्वारा नगर निगम सीमा क्षेत्र के पान मसाले होलसेलरों और फुटकर विक्रेताओं को पान मसाला व कच्चा सामान इंदौर जिले और जिले के बाहर भेजने की अनुमति दी गई है। इस आदेश के चलते इंदौर कलेक्टर सुर्खियों में आ गए है और विपक्ष ने सवाल खड़े करना शुरु कर दिए है कि आखिर संक्रमण फैलने के बीच कलेक्टर इंदौर ने पान मसाला परिवहन व स्थानांतरण की छूट किस आधार पर दी। क्या इसके लिए उन्होंने सरकार से परमिशन ली या फिर उनकी नाक के नीचे बिना किसी को बताएं आदेश जारी कर दिया।

दरअसल, 233 करोड़ रुपए की जीएसटी चोरी और पान गुटखा माफ़िया देशद्रोही किशोर वाधवानी के बाद कई बड़े अधिकारियों पर संलिप्तता को लेकर सवाल खड़े होने लगे है। कहा जा रहा है कि किशोर वाधवानी के साथ ही अन्य आरोपितों के कॉल रिकॉर्ड में कई अधिकारियों से बार-बार बात होने के सुबूत मिले हैं। लॉकडाउन के दौरान जब शहर में कर्फ्यू लगा था तो फिर वाधवानी के ट्रकों को आने-जाने की इजाजत क्यों मिली। वही गुटखा माफ़िया वाधवानी अपने पार्टनर्स के साथ डीआरआई की कस्टडी में है। सबूतों के आधार पर फिलहाल मामले की जांच की जा रही है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here