मां ने रोते हुए क्यों कहा ‘मेरे बच्चे को मत ले जाओ’, आप भी सतर्क हो जाओ

इंदौर| आकाश धोलपुरे| मध्यप्रदेश के इंदौर में कोविड – 19 एक बार फिर शबाब पर है। दरअसल, बुधवार को रिकार्ड 136 पॉजिटिव मरीजो का आंकड़ा सामने आने के बाद आज सुबह से शहर में भय का वातावरण बना हुआ है। इतना ही नही इस भय के बाद कई क्षेत्रों में लोग सतर्कता बरतते नजर आए। शहर में जिससे बात की जाए वो आशंका जता रहा है कि फिर से लॉक डाउन लग सकता है वही प्रशासन फिलहाल, लॉक डाउन की तरफ सोचने की बजाय लोगो से सतर्कता बरतने की अपील कर रहा है। ऐसे में हम आपसे अपील करते है कि लॉक डाउन पर चर्चा करने से बचते हुए अफवाह से बचे और सिर्फ सतर्कता बरते और लोगो से दूरी बनाये रखने के साथ ही मास्क पहनने की अपील करे।

इंदौर में भय का वातावरण बनने की वजह भी साफ है क्योंकि कई क्षेत्र ऐसे है जहां से बड़ी संख्या कोरोना पॉजिटिव मरीज मिल रहे है। इंदौर के ग्वालटोली क्षेत्र की बात की जाए तो बड़ी ग्वालटोली में मंगलवार तक 10 पॉजिटिव केस सामने आए थे वही छोटी ग्वालटोली क्षेत्र में कोरोना संक्रमण के 3 लोग शिकार हुए। इधर, इंदौर के एरोड्रम क्षेत्र के श्री लक्ष्म नगर एसबीआई एटीएम के सामने वाली गली में अब 17 पॉजिटिव मरीज सामने आए जिनमे 6 साल का एक बच्चा और 13 साल की बेटी सहित 3 बच्चे शामिल है। 6 साल के बच्चे को जब टीम इलाज के लिए ले जा रही थी तब माँ की ममता बाहर आ गई और उसके रुदन भरे स्वर में एक ही आह निकली मेरे बच्चे को मत ले जाओ। इस संक्रमित क्षेत्र के हर घर मे कोविड की जांच की गई है। जानकारी के मुताबिक आशंका जताई जा रही है कि एक घर के बाहर बेची जा रही सब्जियों से यहां कोरोना फैला है फिलहाल इसमे कितनी सच्चाई ये अभी कहा नही जा सकता है। वही शहर के बिनोबा नगर, मूसाखेड़ी के समीप मयूर नगर, जेल रोड़ के उषा फाटक क्षेत्र के 6 तो काछी मोहल्ला के 2 लोग संक्रमण के शिकार हुए है। इसी तरह शहर के परदेशीपुरा में 2, सुभाष नगर में 3 और सियांगज में 3 लोग कोरोना के शिकार हुए है। सूत्रों के मुताबिक कोरोना ने बीएसएफ और हाइकोर्ट में दस्तक दे दी है इसी तरह देवी अहिल्या विश्विद्यालय के ऑडिट में 1 तो तक्षशिला कैम्पस में 1 कर्मचारी के पॉजिटिव होने की जानकारी सामने आई है। फिलहाल, इंदौर कोरोना की रडार पर है ऐसे में आप सबसे एम.पी.ब्रेकिंग न्यूज अपील करता है कि आप। सभी लोगो को जागरूक करे, मास्क पहने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करे, हाथों को साबुन से बार – बार धोये या सेनेटाइज करे और प्रशासन के हर दिशा निर्देशों का पूरी गम्भीरता से पालन करे क्योंकि ये खतरनाक वायरस नाम, जाति, धर्म, उम्र और ओहदे को देखकर नही आता है बल्कि ये जानलेवा वायरस अपने शिकार को कही भी अपनी चपेट में ले लेता है। लिहाजा, सावधान रहे, सतर्क रहें और लोगो को जागरूक करे।