असिस्टेंट प्रोफेसर पर छात्राओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी के आरोप, SP ने दिए जांच के आदेश

जबलपुर।

चिकित्सा शिक्षा का मंदिर नेता जी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज एक बार फिर किस्मत के बदले अस्मत मांगने को लेकर सुर्खियों में आया है। मेडिकल कॉलेज में इंटर्नशिप कर रही 13 छात्राओं ने लिखित शिकायत कर असिस्टेंट प्रोफेसर पर आरोप लगाए है।पीड़ित छात्रों ने इस मामले की एसपी से शिकायत की है जिसके बाद मामले की जांच के लिए सीएसपी गढ़ा को जांच के आदेश दिए है।

जानकारी के मुताबिक कॉलेज के एक असिस्टेंट प्रोफेसर पर इंटर्नशिप कर रही 13 छात्राओं ने गम्भीर आरोप लगाए हैं। एसपी को दी गई शिकायत में छात्राओं ने बताया कि अक्सर उनके पहनावे और शारीरिक संरचना को लेकर असीटेंट प्रोफेसर आपत्तिजनक टिप्पणी करते रहते हैं।इतना ही नही धमकी भी दी जाती है कि इंटर्नशिप में अड़ंगा लगा देंगे तो सर्टिफिकेट नहीं मिल पाएगा। पुलिस अधीक्षक अमित सिंह ने मामले को गम्भीरता से लेते हुए सीएसपी गढ़ा प्रशिक्षु आईपीएस अमित तोलानी को जांच सौंपी है।

13 छात्राओं को कर रहा प्रताडि़त

एसपी को शिकायत में छात्राओं ने बताया कि वह बैचलर ऑफ फिजियोथैरेपी की फाइनल परीक्षा 2019 में पास की थी। मई 2019 से इंटर्नशिप शुरू हुआ। कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर फिजियोथैरपी द्वारा सभी 13 छात्राओं को प्रताडि़त किया जा रहा है। वह लगातार पहनावे और हमारी शारीरिक संरचना को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी करते रहते हैं। इसकी वजह से सभी छात्राएं मानसिक पीड़ा से गुजर रही हैं।

छात्राओं ने एस पी को बताया कि डीन, फिजियोथैरपी के हेड ऑफ डिपार्टमेंट, कोऑर्डिनेटर फिजियोथैरेपी से भी शिकायत की गई पर वहाँ भी उनकी शिकायत पर ध्यान नही दिया गया। असिस्टेंट प्रोफेसर की मौजूदगी से छात्राएं खुद को असुरक्षित महसूस कर रही हैं।