फैसला आन द स्पॉट, उपभोक्ता की शिकायत पर दुकान को किया सील

जबलपुर।संदीप कुमार| कोरोना वायरस (Corona VIrus) में लगे लॉकडाउन (Lockdown)में सरकार गरीबो को दाना पानी जरूर खिला रही है पर उस दाने की क्वॉलिटी ऐसी है कि उसे जानवर भी न खाए। जबलपुर (Jabalpur) में जिला अपूर्ति अधिकारी के सामबे जाकर एक उपभोक्ता ने शिकायत की है सरकारी राशन दूकान से जो चावल उसे मिला है वो गुणवत्ता विहीन है इतना ही नही उस चावल से बदबू आ रही है।फ़ूड कंट्रोलर ने उपभोक्ता की शिकायत सुनते ही आन द स्पॉट कार्यवाही करने की ठानी और मौके पर पहुँच गए।

उपभोक्ता की शिकायत सुनते ही नाराज हो गए फूड कंट्रोलर

गढ़ा फाटक निवासी भरत पांडे ने अपनी शिकायत में बताया कि कचियाना स्थित पारस सहकारी दुकान में घटिया चावल उपभोक्ताओं को दिया जा रहा है जिसका जीता जागता सबूत यह चावल है।भरत पांडे ने बताया कि जब उसने खराब चावल लेने से मना किया तो राशन दुकान संचालक का यह कहना था कि सरकार की तरफ से इसी तरह का राशन दिया जा रहा है और इसे ही लेना पड़ेगा।लॉक डाउन में लगे कर्फ्यू के कारण बुजुर्ग ने वही खराब चावल लेकर घर आ गया पर वह चावल इस लायक भी नहीं थे कि उसे जानवर भी खा सकें।उपभोक्ता की शिकायत सुनते ही राशन दूकान पहुँच गए।

मौके पर न संचालक मिला और न ही दूकान

उपभोक्ता भरत पांडे की शिकायत सुनते ही जिला आपूर्ति अधिकारी एमईएस खान मौके पर पहुँच गए।पर फ़ूड कंट्रोलर को वहां न सहकारी उचित मूल्य की दूकान दिखी और न ही दूकान संचालक।फ़ूड कंट्रोलर को एक लाल शटर की बंन्द दूकान मिली।लोगो ने बताया कि यही है पारस उचित मूल्य की दूकान।फ़ूड कंट्रोलर ने देखा कि दूकान में ही बोर्ड लगा है और न ही वो तय समय तक खुली हुई है।

फ़ूड कंट्रोलर का फैसला आन द सपाट

शिकायत के बाद जब मौके पर जिला आपूर्ति अधिकारी एनएमएस खान गए तो उन्हें दूकान बंन्द मिली जिसके बाद उन्होंने तुरंत ही फ़ूड इंस्पेक्टर को बुलवाया और दूकान सील करने के निर्देश दिए साथ ही फ़ूड कंट्रोलर ने पारस सहकारी उचित मूल्य की दूकान का लाइसेंस निरस्त कर दिया है।