ABVP का राष्ट्रीय अधिवेशन: राष्ट्रीय सहसंगठन मंत्री कोरोना पॉजिटिव, कांग्रेस बोली-तुरंत रद्द करें

इसमें नोबल शांति पुरस्कार से सम्मानित समाजसेवी कैलाश सत्यार्थी मुख्य अतिथि और देशभर से परिषद् के सभी पदाधिकारी व जनप्रतिनिधि शामिल होंगे और कार्यक्रम का 2407 केंद्रों से सीधी प्रसारण भी किया जाएगा।

mp corona today case

जबलपुर, संदीप कुमार। मध्य प्रदेश की औद्योगिक राजधानी कहे जाने वाले जबलपुर में आज शुक्रवार से शुरु होने जा रहे तीन दिवसीय अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (ABVP national convention ) के 67 वां राष्ट्रीय अधिवेशन से पहले बड़ी खबर सामने आ रही है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए है, जिसके बाद कार्यकर्ताओं और नेताओं में हड़कंप मच गया है। वही कांग्रेस ने इस अधिवेशन पर आपत्ति जताते हुए इसे तुरंत रद्द करने की मांग की है।

यह भी पढ़े.. कर्मचारियों को क्रिसमस पर मिलेगी गुड न्यूज! 18 महीने के पेंडिंग DA Arrears पर आया नया अपडेट

दरअसल, 60 साल बाद जबलपुर में आज 24 दिसंबर 2021 शुक्रवार से रविवार तक वेटरनरी विश्वविद्यालय परिसर में तीन दिवसीय अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (ABVP) का 67 वां राष्ट्रीय अधिवेशन आयोजित किया जा रहा है।इसमें नोबल शांति पुरस्कार से सम्मानित समाजसेवी कैलाश सत्यार्थी मुख्य अतिथि और देशभर से परिषद् के सभी पदाधिकारी व जनप्रतिनिधि शामिल होंगे और कार्यक्रम का 2407 केंद्रों से सीधी प्रसारण भी किया जाएगा।इसके अलावा कार्यक्रम में भाजपा के बड़े नेता  और खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से लेकर प्रदेश अध्यक्ष  वीडी शर्मा भी शिरकत करने वाले है, लेकिन इससे पहले राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने से हड़कंप मच गया है।

यह भी पढ़े.. MP में लापरवाही पर 7 सस्पेंड, 17 कर्मचारियों को नोटिस, 38 लाइसेंस निलंबित, 3 दर्जन की वेतन-वृद्धि रोकी

वही तरह तरह के सवाल उठने लगे है कि एक तरफ सरकार कोरोना के बढ़ते केसों को लेकर नाइट कर्फ्यू लगा रही है और प्रदेशभर में सख्ती की जा रही है, वही दूसरी तरफ नेता के पॉजिटिव पाए जाने पर अधिवेशन हो रहा है, आज जबलपुर में 5 कोरोना पॉजिटिव आए है। इस पूरे मामले में NSUI के प्रदेश अध्यक्ष मंजू त्रिपाठी का बयान भी सामने आया है उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मांग की है कि जबलपुर में होने वाले अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय अधिवेशन को तुरंत ही रद्द किया जाए क्योंकि अगर इसे रद्द नहीं किया गया तो इस भीड़ में एक कोरोना का जबरदस्त विस्फोट होगा जो कि पूरे देश में फैलेगा।