जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर पुलिस ने सोमवार को दो ऐसे शातिर युवक-युवती को गिरफ्तार किया है जो कि रेल्वे में नौकरी के नाम पर बेरोजगार लोगों का लाभ उठाते हुए उनसे लाखों रुपए वसूल लिया करते थे। गोहलपुर पुलिस ने शिकायत पर कार्रवाई करते हुए आरोपी राकेश कुमार सराठे और महिला रेनू को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उनसे लाखों रुपए बरामद भी किए हैं, बताया जा रहा है कि दोनों ने मिलकर अभी तक कई लोगों को रेलवे में नौकरी का लालच देते हुए करीब 13 लाख 60 हजार रु बरामद किये थे, फिलहाल गोहलपुर थाना पुलिस ने दोनों युवक-युवती को गिरफ्तार कर लिया है

यह भी पढ़ें…सिंगरौली पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 58 लाख के माल के साथ अंतरराज्यीय चोर गिरफ्तार

जानकारी के अनुसार गोहलपुर में रहने वाले नर्मदा पटेल ने पुलिस को शिकायत की थी कि उनके पड़ोस में रहने वाले राकेश कुमार सराठे जो कि कपड़े का व्यवसाय करता है उसने बेटे और दामाद को रेलवे में नौकरी लगवाने के नाम पर करीब 7 लाख रु ठग लिए हैं। नर्मदा पटेल की शिकायत पर जब पुलिस ने छानबीन शुरू की तो पता चला कि राकेश कुमार सराठे और उसकी महिला साथी ने अभी तक कई लोगों को रेलवे में नौकरी लगाने के नाम पर ठगा है। दोनों ही लोगों ने 13 लाख से ज्यादा रुपए अभी तक नौकरी के नाम पर वसूले हैं।

आरोपी राकेश कुमार कभी हुआ करता था रेलवे में गेटमैन
जानकारी के मुताबिक राकेश कुमार सराठे मूलता रीवा जिले का रहने वाला है। और वह कभी राजस्थान में गेटमैन की नौकरी संविदा में किया करता था। कुछ साल पहले उसने नौकरी छोड़कर जबलपुर में आ गया और फिर यहां पर कपड़े का व्यवसाय करने लगा। राकेश कुमार सराठे ने अपने पड़ोस में रहने वाली नर्मदा पटेल को झांसा देते हुए कहा कि मेरे पहचान के अधिकारी हैं जो कि रेलवे में पदस्थ हैं वह आपके बेरोजगार बेटे और दामाद को नौकरी में लगवा सकते हैं, बस इसी झांसे में आकर नर्मदा पटेल ने 7 लाख रु राकेश कुमार सराठे को दे दिए।

आरोपियों ने दोनों युवकों से करवा दी फर्जी परीक्षा
राकेश कुमार सराठे इतना चालाक था कि उसने नर्मदा पटेल और उनके बेटे दामाद को जरा भी शक नहीं होने दिया। आरोपी राकेश कुमार ने रेलवे विभाग के फार्म एवं उत्तर पुस्तिका लेकर उनकी घर पहुंचा और बकायदा उनके लड़के प्रतुल और दामाद सुमित से फार्म एवं उत्तर पुस्तिकाओं पर हस्ताक्षर करवाए। जिसके बाद राकेश सराठे ने नर्मदा पटेल के पुत्र प्रतुल के लिए 3 लाख और दामाद सुमित के लिए 4 लाख रु ले लिए। राकेश कुमार सराठे ने 7 लाख रु लेने के बाद नर्मदा पटेल के बेटे प्रतुल एवं दामाद सुमित की फर्जी जॉइनिंग भी करवा दी। आरोपी ने दोनों से कहा कि अभी रेलवे अस्पताल की मशीनें खराब है। इसलिए आपका प्राइवेट अस्पताल में मेडिकल करवाया जा रहा है। जिसके बाद प्रतुल्य का टिकट निरीक्षक के पद पर शहपुरा और उनके दामाद सुमित का जबलपुर मुख्य रेलवे स्टेशन में नियुक्ति भी करवा दी। इतना ही नहीं दोनों को रेलवे स्टेशन पर घुमाने के लिए भी ले गया।

महिला रितु सेन को बता दिया राकेश ने फर्जी रेलवे अधिकारी
रितु सेन उर्फ़ पूनम जो कि बलदेवबाग महिला मार्केट के पास की रहने वाली थी। उसे राकेश कुमार सराठे ने नर्मदा पटेल और उनके बेटे दामाद के सामने रेलवे का अधिकारी बताकर मिलवा दिया। इतना सब होने के बाद जब नर्मदा पटेल और उनके बेटे दामाद को पता चला कि उनके साथ ठगी हुई है। तो फिर गोहलपुर थाने में इसकी शिकायत की गई।

पुलिस ने जब्त किए फर्जी दस्तावेज
नर्मदा पटेल की शिकायत के बाद हरकत में आई जबलपुर पुलिस ने सीएसपी अखिलेश गौर के नेतृत्व में कार्रवाई करना शुरू की। जिसमें पाया कि राकेश कुमार सराठे ने सिर्फ प्रतुलय और सुमित ही नहीं बल्कि कई लोगों के फर्जी जॉइन लेटर बनाए थे। पुलिस ने दोनों आरोपी के पास से कई नामों के फर्जी जॉइनिंग लेटर, रेलवे के कन्वेंशन पेपर,आंसर शीट, पैन कार्ड, आधार कार्ड जब्त किए हैं।

जबलपुर पुलिस की कार्रवाई, रेल्वे में नौकरी लगाने के नाम पर लाखों की ठगी करने वाला गिरोह गिरफ्तारजबलपुर पुलिस की कार्रवाई, रेल्वे में नौकरी लगाने के नाम पर लाखों की ठगी करने वाला गिरोह गिरफ्तार

यह भी पढ़ें…सीएम शिवराज सिंह चौहान का बड़ा बयान-शैक्षणिक पाठ्यक्रमों से तत्काल हटाएं ये भाग