आखिर किसने लगाई फटकार कि एसी केबिन छोड़कर खुद RTO को उतरना पड़ा सड़क पर

जबलपुर, संदीप कुमार। प्रदेश में चल रहे ऑटो की धमाचौकड़ी को लेकर हाई कोर्ट ने ट्रासंपोर्ट कमिश्नर को फटकार क्या लगाई प्रदेश भर के आरटीओ एसी कैबिन छोड़कर सड़कों पर आकर स्वयं ही ऑटो चैकिंग करने में जुटे हुए है, 2013 में लगी एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने ट्रांसपोर्ट कमिश्नर को फटकार लगाई है यही वजह है कि अब परिवहन विभाग का अमला सड़कों पर उतर आया है, इस दौरान जबलपुर आरटीओ संतोष पाल स्वयं ऑटो रोकते हुए नजर आये, दरअसल 2013 में ऑटो की धमाचौकड़ी को लेकर जनहित याचिका लगाई गई थी जिसमे ऑटो की धमाचौकड़ी से हाई कोर्ट को रूबरू करवाया पर आज तक जब इस मामले में परिवहन विभाग ने गंभीरता नही दिखाई तो हाई कोर्ट ने इस मामले को लेकर नाराजगी जाहिर की जिसके चलते आज आरटीओ संतोष पाल एसी कैबिन छोड़ सडको पर घूमते नजर आए, आज मंगलवार को आरटीओ विभाग ने ट्रैफिक पुलिस के साथ मिलकर 200 से ज्यादा ऑटो पर कार्यवाही करते हुए उसे जप्त किया है।

स्वास्थ्य अव्यवस्थाओं में होगी कार्रवाई, मीडियाकर्मियों के ज्ञापन के बाद कलेक्टर ने दिया आश्वासन

आरटीओ और ट्रैफिक पुलिस ने हाई कोर्ट की फटकार के बाद एक साथ कई स्थानों पर कार्यवाही कि इस दौरान आरटीओ और पुलिस ने चालको के लाइसेंस-दस्तावेजो की जाँच की,आरटीओ संतोष पाल भी मान रहे थे कि ऑटो के कारण शहर की यातायात व्यवस्था खराब हो रही थी जिसमे की हाई कोर्ट ने नाराजगी दिखाई थी इसलिए अब जब तक कि शहर की ऑटो व्यवस्था ठीक नही हो जाती तब तक आरटीओ का अमला सड़क पर रहेगा।