महकोशल-विंध्य की उपेक्षा से नाराज पूर्व विधायक ने अपनी ही सरकार को घेरा

पूर्व विधायक ने कहा कि भाजपा मंदिर और राष्ट्रीयता के नाम पर दिखावा कर रही है, महाकोशल-विंध्य से सबसे ज्यादा राजस्व मप्र सरकार के खजाने में आता है इसके बाबजूद दोनों क्षेत्रों की उपेक्षा की जा रही है

जबलपुर, संदीप कुमार| महकोशल-विंध्य को अलग प्रदेश बनाने की मांग को लेकर अब सरकार को घेरने की रणनीति तेज हो गई हैं| रीवा के पूर्व भाजपा विधायक लक्ष्मण तिवारी (Laxman Tiwari) भी अब अजय विश्नोई (Ajay Vishnoi) के बाद अपनी ही सरकार को घेरने में जुट गए है| आज जबलपुर (Jabalpur) में मीडिया के सामने उंन्होने अपनी ही सरकार पर गंभीर आरोप लगाए|

पूर्व विधायक ने कहा कि भाजपा मंदिर और राष्ट्रीयता के नाम पर दिखावा कर रही है, महाकोशल-विंध्य से सबसे ज्यादा राजस्व मप्र सरकार के खजाने में आता है इसके बाबजूद दोनों क्षेत्रों की उपेक्षा की जा रही है, वही उंन्होने कहा कि मंत्रीमण्डल में महाकोशल के साथ सौतेला व्यवहार किया गया है जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा|

याचनाएं करनी पड़ रही जनप्रतिनिधियों को
जबलपुर में आज पत्रकारों से चर्चा कर रहे भाजपा के पूर्व विधायक ने आरोप लगाया कि महाकोशल-विंध्य के नेताओं को मप्र सरकार के सामने हर एक काम के लिए याचनाएं करनी पड़ रही है, दोनों क्षेत्रों के विकास के नाम पर सिर्फ सरकार ने सपने दिखाएं हैं|

पूर्व विधायक का गंभीर आरोप-सबकुछ तो ले लिया…..
जबलपुर हो या रीवा य फिर महाकोशल-विंध्य कोई भी जिला, सब कुछ तो ले लिया गया है, बडे-बड़े उद्योगों के नाम पर सिर्फ सब्जबाग दिखाए गए, कॉलेज से लेकर बड़े-बड़े संस्थानों का ट्रांसफर इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर में कर दिया गया और महाकौशल-विन्ध खाली हाथ सिर्फ एक नया सपना देख रहा है|

अजय विश्नोई भी महाकौशल-विन्ध की उपेक्षा पर उठा चुके हैं सवाल
महाकौशल-विंध्य की लगातार हो रही उपेक्षा को लेकर अपनी ही सरकार को घेरने में जुटे एक और पूर्व विधायक का नाम अब आ गया है, गौरतलब है कि इससे पहले पूर्व मंत्री अजय विश्नोई ने भी महाकौशल और विंध्य की उपेक्षा को देखते हुए अपनी सरकार को घेरने में जुटे हुए थे, लिहाजा अब एक और पूर्व विधायक ने अपनी ही सरकार पर आरोप लगाना शुरू कर दिया है|