बादल गोस्वामी हत्याकांड: बच्चे के बड़े पापा ने दो लोगों के साथ मिलकर की थी हत्या

badal-goswami-murder-case-

जबलपुर | चरगवां थाना अंतर्गत सगड़ा गांव में हुई सनसनीखेज अपहरण और हत्या की वारदात का पुलिस ने खुलासा किया है| वारदात के पीछे की वजह और आरोपियों की जानकारी जैसे ही सामने आई हर कोई हैरान था क्योंकि 10 वर्षीय मासूम बच्चे की हत्या करने वाला कोई और नहीं बल्कि मृतक बादल के पिता का बड़ा भाई यानि बादल के बड़े पापा अनिल उर्फ अन्नू गिरी गोस्वामी थे। जिन्होंने गांव के ही मुकेश श्रीपाल और गुड्डू तिवारी के साथ मिलकर दिन दहाड़े बादल का अपहरण किया और फिर जब पुलिस ने छानबीन शुरू की तो पकड़े जाने के ड़र से बादल की गला घोंटकर हत्या कर दी। पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

वारदात को अंजाम देने के बाद 9 अप्रैल की रात को उन्होंने मोटर साइकिल से बादल की लाश को नर्मदा नदी में ठिकाने लगाने का प्रयास किया था और बोरे में बंद बादल का शव लेकर लखन गौं�� के घर से निकले भी थे लेकिन कुछ दूरी पर ही गांव के लोगो ंकी भीड़ देखकर वे वापस लौट आए और मुकेश श्रीपाल के घर के बगल में बने रामजी श्रीपाल के खाली मकान में गलियारे में बादल का शव छिपा दिया। इसके बाद मुकेश ने बाहर से ताला लगाया और सभी अपने-अपने घर चले गए। एक दिन बाद जब रामजी श्रीपाल के घर से बदबू आने लगी तो पुलिस ने ताला तोड़कर उस घर की जांच की जहां बादल का शव एक बोरे में बंद था और उसके हाथ बिजली के तार से बंधे हुए थे। पोस्टमार्टम में बादल की हत्या गला घोंटने से होना पाई गई थी। इस मामले में पुलिस ने बारीकी से जांच करते हुए बादल के कपड़े, बाइक और बिजली के तार सहित तमाम सबूत जुटा लिए हैं।