बरगी बांध के कैचमेंट एरिया मे लगातार बारिश से लबालब हुआ डेम, दो दिन में खोले जा सकते है गेट

निचली बस्तियों मे रहने वाले लोगों को किया गया अलर्ट , 29 जुलाई को 11 बजे खोले जा सकते है गेट

जबलपुर, संदीप कुमार।  रानी अवंती बाई लोधी सागर परियोजना (बरगीबांध) के जलग्रहण क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश को देखते हुए परियोजना प्रशासन द्वारा बांध के जलस्तर को नियंत्रित करने गुरुवार 29 जुलाई को इसके जलद्वारों से लगभग एक से डेढ़ लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने की संभावना बताई गई है।

Chhindwara : नदी पार करते समय बहा बच्चा, हुई मौत

बरगी बांध के जलग्रहण क्षेत्र में विगत चार दिनों में 125 मिलीमीटर वर्षा रिकार्ड की गई है। इस दौरान लगातार हो रही बारिश की वजह से बांध का जलस्तर दो मीटर बढ़कर 27 जुलाई की सुबह 11 बजे 415.80 मीटर तक पहुंच गया है। वर्तमान में लगभग 750 घनमीटर प्रतिसेकेंड पानी की आवक बांध में हो रही है। बांध आपरेशनल मैन्युअल के अनुसार 31 जुलाई तक बांध का जलस्तर 417.50 मीटर एवं 15 अगस्त तक 421 मीटर रखा जाना निर्धारित है। बांध में पानी की आवक इसी रफ्तार से बनी रही तो आने वाले 29 जुलाई की दोपहर 11 बजे तक या इसके पहले बांध का जलस्तर 417.50 मीटर पहुंच जायेगा।

जबलपुर के सिहोरा में लापता शिक्षक का शव बोरी में बरामद, अज्ञात आरोपियों ने हत्या कर शव को जंगल मे फेंका

बांध के जलद्वारों को खोलने और इनके माध्यम से एक से डेढ़ लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने से नर्मदा नदी के निचले क्षेत्र के घाटों पर पानी का स्तर छह से आठ फुट तक बढ़ सकता है। उन्होंने इसके मद्देनजर निचले क्षेत्र के रहवासियों से सतर्क रहने तथा नर्मदा नदी के तटीय इलाकों एवं घाटों से पर्याप्त सुरक्षित दूरी बनाये रखने का आग्रह किया है। श्री सूरे ने कहा है कि बांध में वर्षा जल की आवक को देखते हुए इसके जलद्वारों में पानी छोडऩे की मात्रा बढ़ाई या कम की जा सकती है।