बड़ा फैसला: जेडीए के पूर्व कार्यपालन यंत्री को 5 साल की जेल, 1 करोड़ 30 लाख का जुर्माना

शिवपुरी

जबलपुर| आय से अधिक संपत्ति मामले में जबलपुर विकास प्राधिकरण के पूर्व कार्यपालन यंत्री, जी एन सिंह को करारा झटका लगा है| जबलपुर में लोकायुक्त की स्पेशल कोर्ट ने जी एन सिंह को 5 साल की कैद और 1 करोड़ 30 लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। खास बात ये भी है कि लोकायुक्त कोर्ट ने जीएन सिंह की अनुपातहीन चल-अचल संपत्ति और बैंक में जमा राशि सहित बीमा पॉलसियों के क्लेम को भी राजसात करने का आदेश दिया है| इधर 1 करोड़ 30 लाख रुपयों के जुर्माने के बतौर जबलपुर में लोकायुक्त कोर्ट का ये अब तक का सबसे सख्त फैसला बताया जा रहा है|

बता दें कि जबलपुर विकास प्राधिकरण में कार्यपालन यंत्री और भूअर्जन अधिकारी के पद पर रहे जीएन सिंह पर लोकायुक्त ने मार्च 2011 में छापामार कार्यवाई की थी| जी एन सिंह पर बिल्डर्स से मिलीभगत कर जेडीए की संपत्ति को सस्ते दामों पर बेचने का आरोप लगा था जिसमें जीएन सिंह के घर और दफ्तरों में की गई छापामार कार्यवाई के बाद उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला भी दर्ज किया गया था| इसी मामले में आज लोकायुक्त कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए जीएन सिंह को 5 साल कैद और 1 करोड़ 30 लाख जुर्माने की सजा सुनाई है जिसके साथ ही उन्हें कोर्ट से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।