किसान ऋण फर्जीवाड़े की खुली पोल, कलेक्टर ने दिए जांच के आदेश

collector-order-for-farmer-loan-debt-

जबलपुर। 

जय किसान ऋण माफी योजना के नाम पर एक बड़ा फर्जीवाड़ा होने से बच गया। जिले में करीब एक दर्जन से अधिक किसानों के फाॅर्मो ऐसे पाए गए जिसमें किसानों की ऋण पुस्तिका का इस्तेमाल कर गलत तरीके से लोन लिया गया। जबकि किसानो ने शिकायत में बताया कि ऐसा कोई ऋण उनके द्वारा नहीं लिया गया है। 

मामले में कलेक्टर छवि भरद्वाज ने जिले की सभी एसडीएम को ऋण प्रकरण की समीक्षा का तीन दिवस के अंदर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के आदेश दिए है। गौरतलब है कि जय किसान ऋण माफी योजना के तहत जिले मे कुल 80 हज़ार पात्र किसानों का चयन किया गया है। अब तक करीब 66 हज़ार किसानों ने ऋण माफी की फाॅर्म भर दिए हैं। अभी प्राथमिक जाॅच में ये फर्जीवाड़ा सामने आया है जिसमें किसी गिरोह के सक्रीय होने का अनुमान है। कलेक्टर ने मामले में दोषियों पर एफआईआर करने के भी निर्देष दिए हैं। वहीं ऋण माफी योजना को लेकर प्रशासन भी अब खासी सख्ती बरत रहा है। समय सीमा बैठक के दौरान योजना में कार्य के प्रति लापरवाही बरतने पर 3 नोडल अधिकारियो को सस्पेंड कर 3 वेतन वृद्धि राकने के भी निर्देष दिए गए है।