मध्य प्रदेश मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी की उप कुलसचिव के खिलाफ शिकायत दर्ज, ये है मामला

कुलसचिव ने मार्कशीट के लिए कई मर्तबा उप कुलसचिव पूजा शर्मा (Deputy Registrar Pooja Sharma) को नोटिस भी दिया। बावजूद इसके उन्होंने मार्कशीट नहीं लौटाई।

jabalpur news

जबलपुर, संदीप कुमार। मध्य प्रदेश मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी (Madhya Pradesh Medical Science University) अब एक बार पुनः सुर्खियों में आ गई है, इस बार उप कुलसचिव ने छात्र-छात्राओं की करीब 900 से ज्यादा मार्कशीट (Mark Sheet) अपने पास रख ली है, कुलसचिव ने मार्कशीट के लिए कई मर्तबा उप कुलसचिव पूजा शर्मा (Deputy Registrar Pooja Sharma) को नोटिस भी दिया। बावजूद इसके उन्होंने मार्कशीट नहीं लौटाई। अब विश्वविद्यालय ने गढ़ा थाने (Garha Police Station) में उप कुलसचिव के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है।

यह भी पढ़ें…सुप्रीम कोर्ट की केंद्र सरकार को फटकार, किसानों के प्रदर्शन पर बहाने न बनाये

2300 मार्कशीट हस्ताक्षर के लिए दी थी
जानकारी के मुताबिक मध्य प्रदेश मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी में पदस्थ उप कुलसचिव पूजा शर्मा को करीब 2300 मार्कशीट हस्ताक्षर के लिए दी गई थी। जिसमें से की उन्होंने 900 से ज्यादा अंकसूची हस्ताक्षर कर वापस नहीं लौटाई है। इसको लेकर प्रबंधन ने पूजा शर्मा को नोटिस भी जारी किया पर उन्होंने किसी भी तरह की अंकसूची को लेकर जानकारी उपलब्ध नहीं कराई, जिसके बाद कुलसचिव ने गढ़ा थाने में अंक सूचियों को लेकर अपनी शिकायत दर्ज करवाई है।

लगातार नोटिस जारी किये गए
उप कुलसचिव डॉ प्रभात बुधौलिया के मुताबिक पूजा शर्मा को अंक सूची जमा करने एवं उसके संबंध में जानकारी प्रदान करने को लेकर लगातार नोटिस जारी किए गए और 3 दिन में जवाब देने के लिए भी कहा गया था। इसके बाद भी उप कुलसचिव के द्वारा किसी भी तरह का जवाब नहीं दिया गया। जिसके बाद कुलपति के अनुमोदन पर रजिस्ट्रार द्वारा गढ़ा थाने में एफआईआर (FIR) के लिए पत्र दिया गया।

गौरतलब है कि 12 सितंबर को प्रभारी कुलपति बी चंद्रशेखर ने इस पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए FIR के निर्देश दिए थे, उप कुलसचिव को अपना पक्ष रखने लगातार मौका भी दिया गया। बीते दिनों की कुलपति के संज्ञान में जब दोबारा यह बात आई तो उन्होंने नाराजगी जाहिर की इसके बाद रजिस्ट्रार द्वारा एफआईआर के लिए पत्र दिया गया, बताया जा रहा है कि मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी में यह पहला मौका है जब किसी अधिकारी के खिलाफ प्रशासन द्वारा पुलिस में आवेदन दिया गया हो।

यह भी पढ़ें…स्कूल टीचर ने अपनी ही नाबालिग छात्रा के साथ किया दुष्कर्म, FIR दर्ज