बागेश्वर धाम के पीठाधीश धीरेंद्र शास्त्री मामले में फेसबुक, यूट्यूब और X को अवमानना का नोटिस जारी, देखें पूरा मामला

Dhirendra Shastri

Bageshwar Dham Sarkar: मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने बागेश्वरधाम पीठाधीश्वर पंडित धीरेंद्र शास्त्री के खिलाफ सोशल मीडिया परा डाली गई गलत जानकारियों की याचिका पर सुनवाई की गई। जिस पर उच्च न्यायालय ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म यूट्यूब, फेसबुक, X (पूर्व ट्विटर) पर अवमानना की नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। वहीं संबंधित अधिकारियों से जवाब मांगते हुए इस मामले में अगली सुनवाई चार सप्ताह बाद होनी है। आपको बता दें पूर्व विधायक आरडी प्रजापति और कुछ अन्य लोगों के द्वारा सोशल मीडिया पर पंडित धीरेंद्र शास्त्री के खिलाफ गलत बयानी की थी। जिसको कोर्ट ने हटाने की बात कही थी। लेकिन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने उस कंटेट को हटाया नहीं। जिसको लेकर कोर्ट ने जवाब तलब किया है।

ये है पूरा मामला

पंडित धीरेंद्र शास्त्री के शिष्य रंजीत पटेल ने मध्य प्रदेश हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की थी। जिसमें उन्होंने कोर्ट को बताया था कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर बिना किसी तथ्य के बागेश्वर धाम के खिलाफ भ्रामक वीडियो और कटेंट डाला गया है। जिसके खिलाफ संबंधित अधिकारियों के द्वारा कोई भी उचित कार्रवाई नहीं की जा रही है। वहीं इस सुनवाई के बाद उच्च न्यायालय ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को आपत्तिजनक वीडियो हटाने का आदेश दिया था।

न्यायालय ने भेजा सोशल मीडिया प्लेट्फॉर्म को नोटिस

आपको बता दें पंडित धीरेंद्र शास्त्री के शिष्य रंजीत पटेल की याचिका पर वकील पंकज दूबे और रितिका गुप्ता ने कोर्ट में पक्ष रखा। उन्होंने कहा कि बागेश्वर धाम की प्रतिभा भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में फैली है। वह सनातन धर्म के पूज्यनीय संत हैं। वहीं इनकी छवि को धूमिल करने के कारण पूर्व विधायक आरडी प्रजापति द्वारा भ्रामक और तथ्यहीन वीडियो को सोशल मीडिया पर डाला गया था। वहीं वकील पंकज दूबे ने कहा कि वीडियो के खिलाफ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने कोई भी उचित कार्रवाई नहीं की है। न्यायालय ने उनकी बात को सुनकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के संबंधित अधिकारियों के खिलाफ न्यायालय की अवमानना करने की नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है।


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News