आयुष्मान कार्ड के बावजूद इलाज के वसूले पैसे, संस्कारधानी का मामला

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर में ईलाज कर रहे एक बड़े डॉक्टर के नाम पर कैसे मरीजो को लूटा जा रहा है इस तरह का मामला सामने आया है,जबलपुर के संस्कारधानी हॉस्पिटल के संचालक ने हार्ट के बड़े डॉक्टर के नाम पर दमोह से आई एक महिला को पहले तो भर्ती करवाया गया,आयुष्मान योजना का कार्ड होने के बाद भी मरीज के परिजनो से 20 से 25 हजार रु वसूले, दो दिन तक अस्प्ताल में भर्ती रखने के बाद जब हार्ट के डॉक्टर ने ईलाज नही किया तो महिला के बेटे ने अपनी माँ को संस्कारधानी अस्प्ताल से ले जाकर दूसरे अस्प्ताल में भर्ती करवाया जहाँ मरीज की हालत बेहतर है

प्रशासनिक लापरवाही : वाटर सप्लाई स्कीम के तालाब में घुसे लोग, विसर्जित की गणेश प्रतिमाएं

एम्बुलेंस चालक ने की फर्जीवाड़े की शुरुआत
जानकारी के मुताबिक दमोह निवासी किसानी करने वाले वीरेंद्र नायक की माँ आजाद बाई को हार्ट संबधित बीमारी है, वीरेंद्र ने कुछ दिन तक अपनी माँ का ईलाज दमोह में करवाया जब आराम नही मिला तो उसने अपनी माँ का ईलाज जबलपुर में करवाने के लिए एक एम्बुलेंस चालक से बात की,एम्बुलेंस चालक ब्रजेश शुक्ला ने वीरेंद्र की माँ को दमोह से सीधे जबलपुर में संस्कारधानी हॉस्पिटल लाया और डॉक्टरों से मिलवा दिया,संस्कारधानी हॉस्पिटल संचालक ने भी मरीज को बिना सोचे समझे भर्ती कर लिया

MP School : छात्रों के लिए बड़ी खबर, संशोधित समय सारणी जारी, 20 सितंबर तक होंगे आवेदन

कार्डियोलॉजी हमारे यहाँ आते है रोज
वीरेंद्र नायक की माँ को संस्कारधानी अस्प्ताल में भर्ती कर लिया गया परिजनों ने पूछा कि इलाज कब होगा तो अभी-अभी करते करते दो दिन तक आजाद बाई को अस्प्ताल में भर्ती रखा गया इस दौरान कार्डियो डॉक्टर को नही बुलाया गया,इधर आयुष्मान योजना कार्ड होने के बाद भी वीरेंद्र से करीब 25 हजार रु वसूला गया,अखरिकार जब कार्डियो डॉक्टर ने आया तो वीरेंद्र ने अपनी माँ को वहाँ से दूसरे अस्पताल में ले जाकर भर्ती करवाया

मेहगांव में 4 बच्चों के डूबने पर प्रभारी मंत्री राजपूत ने जताया दुख , 21 को मृतकों के परिजनों से मिलेगे, परिजनों को देंगे 4 लाख की सांत्वना राशि

समय रहते नही होता ईलाज तो जा सकती थी जान
दो दिन तक संस्कारधानी अस्प्ताल में भर्ती होने के बाद वीरेंद्र ने ईलाज न होने पर अपनी माँ को शहर के दूसरे अस्प्ताल में भर्ती करवाया जहाँ उसकी माँ का ईलाज शुरू किया गया,बताया जा रहा है कि अगर समय रहते कार्डियो डॉक्टर आजाद बाई का ईलाज शुरू नही करते तो उनकी जान को खतरा हो सकता था

परिजन कर रहे है अस्प्ताल प्रबंधन के खिलाफ शिकायत की तैयारी। 
आयुष्मान योजना कार्ड होने के बाद भी वीरेंद्र से तुरन्त ही 10 हजार रु जमा करवाया गया उसके बाद दवाई के लिए करीब 15 हजार रु लिए गए जबकि आयुष्मान योजना में निशुल्क ईलाज होता है,फिलहाल परिजन अब संस्कारधानी अस्प्ताल के खिलाफ पुलिस से शिकायत की तैयारी में जुट गए है