गरीबों को बांटा जा रहा था फफूंद लगा कीड़े वाला चावल, निरीक्षण में खुलासा

distributed-fungus-worm-rice-to-poor-people-in-government-shop

जबलपुर|  सरकार हर गरीब को सस्ता साफ खाद्यान वितरण का भले ही लाख दावा करे पर अधिकारियों की लापरवाही के चलते ग्रामीण घटिया किस्म का खाना खाने मजबूर है। ताजा मामला जबलपुर के कुंडम ब्लाक का है जहाँ खाद्य विभाग के औचक निरीक्षण में बड़ा खुलासा हुआ है। हाल के दिनों में खाद्य विभाग के फ़ूड इंस्पेक्टर आर एस खरे ने जब कुंडम ब्लाक के भाजिया गाँव की शासकीय उचित मूल्य की दूकान का औचक निरीक्षण किया तो पाया कि सेल्समैन ग्रामीणों को जो चावल वितरण कर रहा था वो बेहद ही घटिया किस्म का था इतना ही नही चावलों में कीड़ो के साथ साथ फफूंद तक लगी हुई थी। 

खाद्य विभाग के फ़ूड इंस्पेक्टर ने तुरंत ही चावल के वितरण पर रोक लगाते हुए दूकान में रखा करीब 11 क्विंटल 60 किलो चावल को जप्त कर उसका सेम्पल लिया।फ़ूड इंस्पेक्टर के मुताबिक जब उन्होंने सेल्समैन से पूछताछ की तो उसने बताया कि इस किस्म का चावल मप्र स्टेट सिविल सप्लाई कारपोरेशन के द्वारा भेजा गया है। जिस समय चावल की सप्लाई की जा रही थी उसी समय नान से इस किस्म के चावल को लेकर आपत्ति भी उठाई गई थी। फ़ूड इंस्पेक्टर ने चावल के सेम्पल को भारतीय खाद्य निगम के पास परीक्षण हेतु भेजा है।खाद्य विभाग ने घटिया चावलों के किस्म की रिपोर्ट कलेक्टर को भी सौपी है।बताया जा रहा है कि ये घटिया चावल  दुर्गा राइस मिलर और शायना फ़ूड कारपोरेशन के द्वारा सप्लाई किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here