Jabalpur: आर्थिक हालात के चलते युवक ने मौत को लगाया गले, तिलवाराघाट पुल से कूदकर दी जान

युवक फुल-फाल का ठेला लगाता था, लेकिन कोरोना काल के बाद से ही उसकी दिक्कत बढ़ गई और युवक ने तिलवाराघाट पुल से खुदकर अपनी जान दे दी।

hushband-murder-his-wife-and-commit-suicide-

जबलपुर, संदीप कुमार। आर्थिक हालातों से जूझते हुए फल-फूल का ठेला लगाने वाले एक युवक ने तिलवाराघाट के बड़े पुल से कूदकर मौत को गले लगा लिया। युवक जैसे ही नदी में कूंदा, पास में ही नाविक थे, जिन्होंने युवक को पानी से निकालकर तत्काल मेडिकल (Medical) में भर्ती करवाया। लेकिन, इलाज के दौरान युवक ने दम तोड़ दिया।

ये भी पढे़- Railway recruitment: पश्चिम मध्य रेलवे ने निकाली 680 पदों पर भर्तियां, जाने कैसे करें आवेदन

परिवार में छाया मातम
युवक का नाम संजू है जो कि फल-फूल का ठेला लगाकर अपने परिवार का जीवन यापन करता था। जैसे ही परिजनों को पता चला कि संजू ने नर्मदा नदी में कूदकर आत्महत्या कर ली है, वह भागे-भागे मेडिकल पहुंचे और अपने लाडले को म्रत देख फूट-फूटकर रोने लगे। जिन्हें चिकित्सकों और मौके पर उपस्थित पुलिस ने बमुश्किल सम्हाला,पुलिस ने मर्ग कायम कर, मामले की जांच में जुटी है।

जानकारी के मुताबिक संजू उर्फ चंद्रमोहन पिता चंद्रशेखर गुप्ता निवासी इंद्रा नगर, गुप्तेश्वर में निवास करता था। रोजी-रोटी कमाने के लिए सड़क किनारे फल-फूल का ठेला लगाता था और पैसे की तंगी से परेशान युवक ने तिलवारा के बड़े पुल से छलांग लगा दी। लेकिन, बाद में नाविकों ने देखा और पानी से उसे तत्काल निकालकर मेडिकल अस्पताल में भर्ती किया। जहां इलाज के दौरान ही युवक के प्राण निकल गए।

कोरोना काल में युवक हुआ परेशान, आर्थिक तंगी ने किया असहाय
पुलिस सूत्रों की मानें तो युवक कोरोना (Corona) काल के बाद से ही आर्थिक तंगी से जूझ रहा था,फल-फूल का ठेला लगाकर भी दो लोगों की रोटी का जुगाड़ जब नहीं हुआ, तो युवक ने मौत का रास्ता चुन लिया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

ये भी पढे़- MP Board: शासकीय शिक्षकों को लेकर स्कूल शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, कलेक्टरों को निर्देश जारी