मुआवजा न मिलने से प्रशासन पर बिफरे किसान, कलेक्ट्रेट में दिया धरना

Due-to-non-receipt-of-compensation-the-farmers-angry-

जबलपुर| मसूर-उड़द के भुगतान का लंबे समय से इंतजार कर रहे जबलपुर किसान आज जिला प्रशासन पर बिफर गए। नतीजन भुगतान पाने के लिए सैकड़ो किसानों ने कलेक्टर परिसर में ही धरना दे दिया। किसानों का ये धरना करीब आधे घंटे तक चलता रहा इस दौरान किसानों ने जमकर नारे लगाए। हालांकि कलेक्टर छवि भारद्वाज के फोन पर दिए आश्वशन के बाद नाराज किसानों ने अपना धरना खत्म कर दिया पर सरकार को चेतावनी दी है कि अगर एक सप्ताह के भीतर उनके भुगतान नही हुआ तो किसान आत्मदाह जैसा घातक कदम उठाने को मजबूर हो जाएंगे। 

किसानों की माने तो उनका दो करोड़ से ज्यादा का भुगतान लंबे समय से रुका है कई बार कलेक्टर से लेकर सचिव स्तर तक बात की गई पर नतीजा शिफर निकला।कॉलेक्ट्रेड परिषर में प्रदर्शन कर रहे किसान के के अग्रवाल ने रोते हुए बताया कि धान बेचे 3-3 माह हो गए पर भुगतान का कुछ पता नही।पोर्टल बंद है और कृषि मंत्री बोलते है कि हम पता करते है।उन्होंने कहा कि रुपयों के अभाव में आगामी फसलों के बीज-दवा की खरीदी नही हो पा रही है।बीते साल हुई मूंग-उड़द-राहर का पैसा अभी तक नही मिला।अभी तक किसानों को सिर्फ 25 % पैसा दिया है।करीब सवा दो करोड़ से ज्यादा का लंबित भुगतान पाने के लिए किसानों ने सरकार को आत्मदाह करने की चेतावनी दी है।करीब आधे घंटे तक कॉलेक्ट्रेड परिषर में चले धरने की जानकारी जैसे ही कलेक्टर को लगी उन्होंने तुरंत एसडीएम को मौके पर भेजकर किसानों को भुगतान के लिए आश्वस्त करवाया साथ ही फोन पर किसानों से बात करते हुए आश्वशन दिया कि बहुत जल्द उनका रुका हुआ भुगतान दे दिया जाएगा।