ढाई हजार विस्थापितों का चुनाव बहिष्कार का ऐलान, खुले आसमान के नीचे रह रहे परिवार

election-boycott-by-2-5-thousand-displaced-persons-

जबलपुर| मदन महल पहाड़ी से विस्थापित किये गए ढाई हजार से ज्यादा लोगों ने 29 अप्रैल को होने वाले लोकसभा चुनाव में मतदान का बहिष्कार कर दिया है। गौरतलब है कि कुछ महीने पहले हाई कोर्ट के आदेश पर जबलपुर प्रशासन ने गढ़ा मदन महल की पहाड़ियों में घर बनाकर रह रहे सैकड़ों परिवारों को पर्यावरण और अतिक्रमण का हवाला दे यहां से बेदखल कर दिया था। तबसे ये विस्थापित तिलहरी में खुले आसमान के नीचे पंडाल में रहने को मजबूर हैं। 

पीड़ित विस्थापितों का आरोप है कि शासन ने कोर्ट के आदेश पर उनके घरों को तोड़ तो दिया,लेकिन उसके बाद उनकी कोई सुध नही ली।जिसके चलते हजारों लोग न सिर्फ बेघर हो गए हैं बल्कि नरकीय जीवन जीने के लिए मजबूर हैं।हालात ये हैं कि ये गरीब भरी गर्मी में पानी,बिजली सड़क जैसी मूलभूत सुविधाओं के लिए भी तरस रहे हैं।आलम ये है कि बच्चे बूढ़े महिलाएं सभी  खुले आसमान के नीचे रह रहे हैं।ऐसे में इन पीड़ित विस्थापितों ने विरोध का नया तरीका अख्तियार करते हुए मतदान का बहिष्कार करने का एलान किया है।