गर्मी में मतदाता न रहें प्यासे, इसलिए चुनाव आयोग ने किया ये इंतजाम

election-commission-order-for-making-water-supply-to-voters

जबलपुर। 

लोकसभा चुनाव के लिए मतदान भरी गर्मी अप्रैल-मई में होना है। लिहाजा मतदाताओं के लिए पीने का पानी मतदान केंद्रों में अनिवार्य रूप से हो इसके लिए जिला निर्वाचन अधिकारी ने हर मतदान केंद्रों में 300 लीटर पानी की व्यवस्था पीने के लिए कराने हेतु बीएलओ, निकाय और पंचायत को निर्देश दिए हैं।

जिले भर के मतदान केंद्रों में ठंडे पानी की व्यवस्था के लिए जिला प्रशासन करीब 21000 मटके खरीदेगा।इतनी बड़ी संख्या में मटको की उपयोगिता को लेकर मटके बनाने वालों के चेहरे भी खिल गए हैं। अप्रैल-मई की गर्मी में लोकसभा चुनाव में मतदान करने वाले मतदाताओं को पीने का ठंडा पानी भी मिलेगा। राज्य निर्वाचन आयोग ने प्रत्येक केंद्रों में 300 लीटर ठंडे पानी की व्यवस्था के निर्देश दिए हैं। 

जिसके बाद जबलपुर जिला निर्वाचन अब मतदान केंद्रों में मटके की व्यवस्था कराने में जुट गया है।जिले की आठ विधानसभा में 2128 मतदान केंद्र हैं जहां पर कि करीब 10-10 मटके रखे गए तो इनकी संख्या 21 हजार के पार पहुंच जाएगी। एक मटके की कीमत बाजार में लगभग ₹100 है इस लिहाज से सभी 2128 मतदान केंद्रों पर 21 हजार से ज्यादा मटको के लिए ₹2000000 खर्च होंगे। मटकों की व्यवस्था कराने के लिए बीएलओ निकाय और पंचायत को जिम्मा सौंपा गया है।शहर में मटका बनाने वालों की अगर बात की जाए तो रांझी,गढ़ा,मेडिकल और अधारताल में मटके के भट्टे लगाए गए है।निर्वाचन आयोग के निर्देश का जैसे ही मटका बनाने वालों को पता चला वैसे ही उनके चेहरे खिल गए। मटका विक्रेता बनाने वालों की मानें तो अभी तक गर्मियों में मटकी की बिक्री बहुत कम थी क्योंकि ज्यादातर घर में फ्रिज आ गए हैं पर लोकसभा चुनाव में इस बार मटको की जरूरत होने से मटका बनाने वालों को इस गर्मी में ज्यादा काम मिल जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here