अब सेंट्रल जेल की दीवारों पर दौड़ेगा बिजली का करंट

Electricity-will-now-flow-on-Central-Jail-walls

जबलपुर|  प्रदेश की जेलो की सुरक्षा को लांघ पाना अब हर किसी के बस की बात नही रही। अगर कोई भी कैदी जेल की चार दिवारियो को लांघने का भी प्रयास करेगा तो उसे तेज़ बिजली का झटका झेलना होगा। मध्यप्रदेश की तमाम केन्द्रीय जेलो की चार दिवारियाॅ अब इलेक्ट्रिक वायरिंग से लैस हो रही है जिसकी शुरूआत जबलपुर स्थित नेताजी सुभाषचंद्र बोस केन्द्रीय जेल से हो गई है। कुछ ही दिनो मे जबलपुर केन्द्रीय जेल इस सुरक्षा कवच से लैस होने वाली प्रदेश की पहली केन्द्रीय जेल होगी। 

50 एकड़ मे फैली इस जेल की बाउॅन्ड्री वाॅल मे इलेक्ट्रिक वायर फेंसिंग की गई है जिसकी लागत करीब 50 लाख बताई जा रही है। जबलपुर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस केन्द्रीय जेल के अधीक्षक के मुताबिक 2016 मे भोपाल केन्द्रीय जेल मे सीमी आतंकियो की जेल ब्रेक घटना के बाद प्रदेष की सभी जेलो का सीक्यूरिटी आॅडिट किया गया था जिसमे जेलो मे इलेक्ट्रिक वायर फेंसिग का सुझाव स्वीकृत हुआ था। बात जबलपुर जेल की करें तो इस जेल की क्षमता 2200 कैदियों की है जिसमे करीब 2400 से ज्यादा कैदी बंद है। खास बात ये है कि इस इलेक्ट्रिक फेंसिंग को छूने से कैदी को झोर का झटका लगेगा जिससे वह बदहवास हो जाएगा लेकन उसकी जान को कोई खतरा नही होगा।