एफआईआर रद्द कराने एसपी से मिलने पहुंचे पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया

जबलपुर| संदीप कुमार| रविवार को पूर्णता लॉकडाउन (Lockdown) के दिन भाजपाइयों का पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का पुतला दहन करना, इस दौरान कांग्रेसियों का उन्हें रोकना यह पूरा मामला अब राजनीतिक तूल पकड़ चुका है। सरकार के दबाव में आकर जिला प्रशासन ने कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जो कि कांग्रेसियों को नागवार गुजरा लिहाजा पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया विधायक विनय सक्सेना सहित कांग्रेस पार्षद दल ने एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा से मुलाकात कर उनसे मांग की है कि जिस तरह से पुलिस ने एकतरफा कार्यवाही करते हुए एफआईआर दर्ज की है वो पूर्णता गलत है इसकी निष्पक्ष जांच हो और अगर जांच में जरा सी भी लापरवाही पाई जाती है तो कांग्रेसी इसका उग्र विरोध करेगी।

पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान शासन द्वारा भाजपाइयों को धरना प्रदर्शन करने और पुतला फूंकने की जो अनुमति दी गई थी वह पूर्णता गलत है। इस अनुमति से साफ जाहिर होता है कि जिला प्रशासन भाजपा सरकार के दबाव में आकर काम कर रहा है।पूर्व मंत्री ने यह भी कहा कि रविवार के दिन जिला प्रशासन ने दो-दो गलतियां एक साथ की। पहली गलती यह थी कि रविवार को जब पूर्णता लॉकडाउन था तब भाजपा के कार्यकर्ताओं को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का पुतला फूंकने और धरना प्रदर्शन करने की अनुमति दी गई।दूसरी गलती यह थी कि जब कांग्रेसियों ने लॉकडाउन के उल्लंघन का हवाला देते हुए भाजपाइयों को रोका तो पुलिस ने उल्टा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर ही एफआईआर दर्ज कर दी।आज कांग्रेसियों ने एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा से मुलाकात कर उनसे मांग की है कि पूरे घटनाक्रम की निष्पक्ष जांच हो और इसमें जो दोषी है उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाए। अगर फिर भी पुलिस की कार्यवाही में जरा सी भी हीला हवाली बरती जाती है तो कांग्रेस आने वाले समय में उग्र आंदोलन करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here