ग्वालियर और जबलपुर सबसे ज्यादा वायु प्रदूषित शहर, दिवाली के 8 दिन बाद भी हालात खराब

जबलपुर, डेस्क रिपोर्ट। दिवाली की आतिशबाजी के बाद अब दम घोंटने वाला प्रदूषण लोगों की परेशानी बढ़ा रहा है, मध्य प्रदेश के शहरों की बात की जाए तो ग्वालियर में एयर क्वालिटी इंडेक्स 304 के स्तर पर पहुंच गया है। यहां प्रदूषण हवा जहरीली हो गई है। प्रदेश में ग्वालियर सबसे प्रदूषित शहर है। जबलपुर में एयर क्वालिटी इंडेक्स 293 और कटनी में 250 है। दो बड़े शहर भोपाल और इंदौर में एयर क्वालिटी इंडेक्स सामान्य से अधिक तो है, लेकिन खराब नहीं है। इस बार दिवाली के अगले दिन शहर में एयर क्वालिटी इंडेक्स बहुत ऊपर था। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक इस दिवाली पर पटाखे ज्यादा चले थे। 15 दिन पहले 26 अक्टूबर को ग्वालियर में AQI 162 बना हुआ था। 26 अक्टूबर के बाद धीरे-धीरे जैसे-जैसे दिवाली का माहौल बनता गया, एयर क्वालिटी इंडेक्स बढ़ता चला गया है। AQI 200 के ऊपर जाने पर इसे खतरनाक माना जाता है। हैरत की बात यह है कि दिवाली गुजरने के 8 दिन बाद भी AQI 304 के स्तर पर है।

इन पदों पर निकली वैकेंसी, वेतन 1,45,000 रुपए, जाने आवेदन तिथि सहित अन्य डिटेल्स

प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड ने अपनी वेबसाइट पर देश के 136 शहरों के एयर क्वालिटी की रिपोर्ट जारी की है। इसमें प्रदेश में सबसे खराब स्थिति ग्वालियर की है। पर्यावरण के जानकारों की माने तो मौसम, ट्रैफिक और शहर में खुदी पड़ी सड़कें और पराली जलाना प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण हैं। दिवाली के दूसरे दिन ग्वालियर के सिटी सेंटर में एयर क्वालिटी 322 के स्तर पर था, जबकि फूलबाग पॉइंट पर 387 के स्तर पर पहुंच गया था। जानकारों की माने तो आने वाले दिनों में यह प्रदूषण और बढ़ सकता है।