आईएएस मीणा को अब भी मणिपुर में जान का खतरा, CAT से मिली राहत

जबलपुर| केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण(कैट) ने मणिपुर-त्रिपुरा कैडर के 2001 बैच के आईएएस मोहनलाल मीणा को राहत देते हुए उनकी प्रतिनियुक्ति को मध्यप्रदेश में जारी रखने के आदेश दिए है। आईएएस मोहनलाल मीणा मणिपुर राज्य के उखरूल जिले में पदस्थ थे जहाँ उनको लगातार आतंकी से जान का खतरा बना हुआ था। जिसके चलते उन्हें मध्यप्रदेश में प्रतिनियुक्ति में भेजा गया। उस प्रतिनियुक्ति पर अब बिना विचार किए उन्हें रिलीव भी कर दिया गया। केंद्र सरकार और स्पेशल ब्रांच के मुताबिक अभी भी मोहनलाल मीणा को जान का खतरा है। बावजूद इसके तमाम  रिपोर्ट को अनदेखा करते हुए राज्य सरकार ने आईएएस मीणा की प्रतिनियुक्ति को समाप्त कर वापस मणिपुर केडर में लौटने के आदेश जारी कर दिए। इस आदेश को मोहनलाल मीणा ने कैट में चुनोती दी लिहाजा केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण ने उनकी प्रतिनियुक्ति को मध्यप्रदेश में जारी रख जाने के आदेश पारित किए है। 

याचिकाकर्ता का पक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता नमन नागरथ ने रखते हुए दलील दी है कि आईएएस मोहनलाल मीणा को को जान का खतरा होने के जिस महत्वपूर्ण आधार को ध्यान में रखते हुए मणिपुर से मध्यप्रदेश में प्रतिनियुक्ति पर भेजा गया था उस पर बिना विचार किए ही श्री मोहनलाल को रिलीव कर दिया गया जो कि अनुचित है। बहस के दौरान कैट को अवगत कराया गया कि केंद्रीय सरकार और मणिपुर सरकार के स्पेशल ब्रांच ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि श्री मीणा को अभी भी जान का खतरा है इसलिए मध्यप्रदेश में उनकी प्रतिनियुक्ति अवधि को 1 साल और बढ़ाई जाए। इस रिपोर्ट को अनदेखा करते हुए राज्य सरकार ने मीणा की प्रतिनियुक्ति को खत्म करते हुए उन्हें मणिपुर में लौटने के आदेश जारी कर दिए। मोहन लाल मीणा की ओर से रखे गए पक्ष पर सभी बिंदुओं पर गौर करने के बाद 29 अक्टूबर 2019 को अपने आदेश के जरिए पुराने आदेश निरस्त करते हुए मोहन लाल मीणा को यह राहत दी है कि वह मध्यप्रदेश में तब तक कार्य करेंगे जब तक कि केंद्र सरकार मोहनलाल मीणा के खिलाफ जान के खतरे को ध्यान में रखते हुए उनकी पदस्थापना मणिपुर राज्य के बाहर नहीं कर देती।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here