जबलपुर, संदीप कुमार। जो उपभोक्ता लंबे समय से बिजली बिल (electricity bill) की राशि जमा नहीं कर रहे हैं उनके लिए अब एक बुरी खबर है। बिजली विभाग ने ऐसे लोगों के खिलाफ अब सख्त कार्रवाई करते हुए वसूली का नया फंडा अपनाया है और ऐसे बकायेदारों के बैंक खाते सीज (bank account seize) करने की तैयारी में जुट गया है। इतना ही नहीं, विभाग ने ऐसे लोगों की लिस्टिंग भी कर ली है जो लंबे समय से बिजली बिल का भुगतान नहीं कर रहे हैं। जहां बिजली विभाग बैंक खातों की सीज करने की तैयारी में जुट गया है तो वहीं कांग्रेस (congress) ने बिजली विभाग के इस फरमान को तुगलकी बताया है।

बिजली विभाग का वसूली का नया फंडा
जो उपभोक्ता बिजली का उपयोग तो कर रहे हैं पर बिल जमा नही कर रहे, उनके खिलाफ बिजली विभाग अब सख्त कार्यवाही में जुट गया है। विभाग ऐसे लोगो की लिस्टिंग करते हुए उनके बैक खाते अब सीज करेगा। बिजली विभाग की कार्यवाही पहले उन लोगों पर होगी जिनको आरआरसी जारी की गई है। इसके लिए अधिकारियों की स्पेशल टीम भी गठित की जा रही है।

किसकी कितनी है बकायादारी, पुराने चैक और बिल से लगाया जा रहा है पता
बिजली विभाग की जांच में पाया गया है कि हजारों ऐसे बिजली उपभोक्ता है जो कि बिजली का उपयोग करने के बाद अब बिल देने से हाथ खड़े कर रहे हैं। ऐसे में अब विभाग उपभोक्ताओं के पुराने चैक और पुराने बिलों के आधार पर उनकी जानकारी एकत्र कर रहा हैं और जल्द ही फिर ऐसे लोगों के खाते चीज करने की कार्यवाही शुरू की जाएगी।

विभाग के आदेश को कांग्रेस ने बताया तुगलकी फरमान
बिजली विभाग ने जहां वसूली का नया हथकंडा अपनाया है वहीं अब कांग्रेस ने इस फरमान को तुगलकी बताते हुए इसका घोर विरोध किया है। बिजली अधिकार आंदोलन के अध्यक्ष और कांग्रेस के प्रदेश महासचिव सौरभ शर्मा ने विभाग के आदेश को पूरी तरह से गलत ठहराया है। उन्होंने कहा है कि अगर विभाग ने किसी भी तरह से उपभोक्ताओं को परेशान करने के लिए बैंक खाते सीज किए तो फिर ना सिर्फ जबलपुर बल्कि पूरे प्रदेश में बिजली विभाग के खिलाफ आंदोलन छेड़ा जाएगा।

आईये एक नजर डालते है हर ज़ोन में बकाया बिल की राशि पर
ज़ोनवार बकाया रकम
पश्चिम ज़ोन – 9 करोड़ 19 लाख77 हजार
पूर्व ज़ोन – 23 करोड़ 26 लाख 36 हजार
उत्तर ज़ोन – 20 करोड़ 75 लाख 44 हज़ार
दक्षिण ज़ोन – 18 करोड़ 39 लाख 66 ह.
विजयनगर – 9 करोड़ 23 लाख 38 हजार

11 केवी से कम बकायादार
80 करोड़ 84 लाख 93 हजार रुपये

11 केवी से 33 केवी तक बकायादार
7 करोड़ 82 लाख 71 हजार

घाटे में चल रही विद्युत विभाग ने अब बकाया रकम वसूल करने के लिए जिस तरह से बैंक खाते सीज करने की पहल शुरू कर दी है, इससे कहीं ना कहीं कहा जा सकता है कि काफी उपभोक्ता अब बकाया बिल का भुगतान जल्द ही कर सकते हैं। वहीं कांग्रेस ने भी इसका विरोध कर एक नये आंदोलन करने की तैयारी शुरू कर दी है।