जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर (Jabalpur) में बेकाबू हुए कोरोना संक्रमण (Corona infection) के बीच मंगलवार को मंत्री अरविंद भदौरिया (Arvind Bhadoria) ने जबलपुर आकर इलाज की व्यवस्थाओं की समीक्षा बैठक की। जिसमें कोरोना से बचाव से लेकर अस्पतालों की व्यवस्था और मरीजों के आकड़ों पर चर्चा की गई।

चर्चा के दौरान अरविंद भदौरिया ने दावा किया कि जबलपुर में फिलहाल 2170 ऑक्सीजन बैड उपलब्ध हैं और अगले 7 दिनों में 890 ऑक्सीजन बैड्स की और व्यवस्था कर ली जाएगी। सीएम के साथ वीडियो कॉन्फ्रैंसिंग में हुई चर्चा के बाद अरविंद भदौरिया ने भोपाल के चिरायु अस्पताल की तर्ज पर जबलपुर के सुखसागर मेडिकल अस्पताल (Sukh Sagar Hospital) को जल्द ही कोविड केयर सेंटर बनाने का दावा किया है। वही रेमडेसिविर इंजेक्शन (Remedicivir Injection) की कमी को लेकर मंत्री भदौरिया ने कहा कि हम इंजेक्शन की कमी नहीं होने देंगे।

यह भी पढ़ें….मध्यप्रदेश में जारी कोरोना का कहर, मंगलवार को मिले 8998 नए पॉजिटिव

इधर निजी अस्पतालों द्वारा कोरोना मरीजों से मनमानी वसूली पर मंत्री अरविंद भदौरिया ने दो टूक कहा कि निजी अस्पताल लाशों पर सौदेबाजी ना करें। भदौरिया ने कहा कि मनमानी फीस वसूलने वाले निजी अस्पतालों पर सरकार अब सख्त कार्यवाई करेगी। वहीं कोरोना काल में आंदोलन कर रहे जूनियर डॉक्टर्स से मंत्री अरविंद भदौरिया ने इंसानियत दिखाने और सरकार के साथ खड़े होने की अपील की। भदौरिया ने जूनियर डॉक्टर्स की समस्याएं सरकार द्वारा जल्द से जल्द सुलझाने का आश्वासन दिया है।

जबलपुर में पत्रकारों से चर्चा करते हुए मंत्री अरविंद भदौरिया ने दमोह में लॉकडाउन ना होने पर भी सफाई दी। भदौरिया ने कहा कि चुनाव के कारण दमोह में लॉकडाउन का फैसला निर्वाचन आयोग को ही करना है लेकिन सरकार इलाज की बेहतर व्यवस्थाएं दमोह में भी कर रही है। इधर कोरोना संकट के बीच अधिकारियों और कर्मचरियों द्वारा फोन ना उठाए जाने की शिकायत पर जब अरविंद भदौरिया से मीडिया के सामने रिएलिटी चैक करने की मांग की गई तो उन्होने दो टूक कह दिया कि वो जीतू पटवारी नहीं है। भदौरिया ने कहा कि जीतू पटवारी खुद फंसने वाला काम कर देते थे, लेकिन वो अरविंद भदौरिया हैं जो अपनी शैली और मनोयोग से काम करेंगे। जबलपुर में मंगलवार को 552 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। जिसके बाद संक्रमितों की संख्या 22,967 हो गई है और मंगलवार को चार कोरोना संक्रमित मरीज की मौत हुई है उसके बाद मंगलवार तक कुल 292 मरीज संक्रमण से अपनी जान दे चुके हैं वहीं मंगलवार को कुल 252 मरीज कोरोना से जंग जीतकर घर लौटे हैं जबकि 2952 मरीज अभी एक्टिव है।