नर्मदा पंचकोशी परिक्रमा पर जाने वालों के लिए तोहफा, जबलपुर मेट्रो बस प्रबंधन ने किराये में 10 प्रतिशत की छूट की घोषणा की

Atul Saxena
Published on -
Jabalpur News, Narmada Parikrama, Narmada Panchkoshi Parikrama,

Jabalpur News : यदि आप नर्मदा पंचकोशी (पंचकोसी) परिक्रमा पर जाने वाले हैं तो ये खबर आपके लिए जानना बहुत जरूरी है, नर्मदा पंचकोशी परिक्रमा में शामिल होने वालों के लिए मेट्रो बस प्रबंधन ने किराये में छूट देने का ऐलान किया है, जो कोई भी नर्मदा पंचकोशी परिक्रमा के दौरान मेट्रो बस सेवा का उपयोग करेगा इसे किराये में 10 प्रतिशत की छूट मिलेगी।

27 नवंबर से शुरू होगी नर्मदा पंचकोशी परिक्रमा

जबलपुर मेट्रो बस प्रबंधन ने इस साल नर्मदा पंचकोशी परिक्रमा के लिए एक नई व्यवस्था तैयार की है। नर्मदा पंचकोशी परिक्रमा के लिए मेट्रो बस प्रबंधन समूह में जाने वालों के लिए 10% तक किराए में छूट देगी। आपको बता दें कि हर साल की तरह इस साल भी कार्तिक पूर्णिमा पर 27 नवंबर को हरे कृष्णा आश्रम भेड़ाघाट से नर्मदा पंचकोशीय परिक्रमा निकाली  जाएगी। इस परिक्रमा में हजारों लोग शामिल होते हैं। संत महात्माओं के साथ यह नर्मदा परिक्रमा शुरू होती है।

मेट्रो बस प्रबंधन ने किराये में 10% छूट की घोषणा की 

जानकारी के मुताबिक नगर निगम जबलपुर, सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विस ने मिलकर निर्णय लिया है कि पंचकोसी परिक्रमा के लिए आने वाले लोगों को आवागमन की परेशानी ना हो इसके लिए शहर के दमोह नाका, आईएसबीटी, बलदेवबाग, तीन पत्ती , मेडिकल पनागर, बरेला, रांझी से हर 15 मिनट में मेट्रो बस में मिलेगी। नर्मदा परिक्रमा में शामिल होने वाले ग्रुप के लोगों को 10% की इसमें छूट दी जाएगी।

बताया जा रहा है कि यह पहली बार है जब नर्मदा पंचकोशी परिक्रमा के लिए नगर निगम में इस तरह का प्लान बनाया है, गौरतलब है कि रांझी, रेलवे स्टेशन, दमोह नाका से भेड़ाघाट पहुंचने का अभी किराया 30 से 35 है। मेट्रो बस प्रबंधन ने इस तरह की छूट दी है तो इससे पंचकोसी परिक्रमा वासियों को काफी राहत मिलेगी।

जबलपुर से संदीप कुमार की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News