डुमना एयरपोर्ट हादसे में 2 पायलेट डी रोस्टर, लेनी होंगी फिर से ट्रेनिंग, DGCA ने दिया फैसला

इससे विमान का एक टायर भी क्षतिग्रस्त हो गया था।

जबलपुर, डेस्क रिपोर्ट। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने 12 मार्च को जबलपुर (Jabalpur) में रनवे से विमान के फिसलने के मामले में दो पायलटों पर गाज गिरी है। बता दें कि इस मामले में आरोपी दोनों पायलट को डीजीसीए ने डी-रोस्टर कर दिया है। सिविल एविएशन की गाइडलाइन के मुताबिक अब एक बार फिर इन दोनों पायलटों को नए सिरे से एक साल तक ट्रेनिंग लेना होगी। उसके बाद ही फिट पाए जाने पर इन्हें विमान उड़ाने की अनुमति मिल सकेगी।

यह भी पढ़े…Gwalior : कमल नाथ का तंज, विकास विजन से होगा ना कि टेलीविजन से

आपको बता दें कि जबलपुर एयरपोर्ट पर लैंडिंग के दौरान अनियंत्रित होकर रनवे पर आ गए विमान के कारण यात्रियों की जान पर संकट आ गया था। इसमें दिल्ली से 22 यात्रियों को लेकर आ रहा एयर इंडिया का विमान एटीआर 72 जबलपुर के डुमना एयरपोर्ट पर अनियंत्रित हो गया था। इस पर नियंत्रण करने के लिए पायलट ने आपातकालीन ब्रेक का इस्तेमाल किया। इससे विमान निर्धारित स्थल से करीब 30 मीटर आगे निकल गया और रनवे से नीचे उतर गया। इससे विमान का एक टायर भी क्षतिग्रस्त हो गया था।

यह भी पढ़े…सरकार गिरने के डर के बीच उद्धव ने खेला हिंदुत्व कार्ड, दो शहरों के बदले नाम

हालांकि घटना में किसी यात्री को कोई नुकसान नहीं हुआ, लेकिन नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने मामले की जांच के निर्देश दिए थे। जांच तक विमान एयरपोर्ट पर ही खड़ा रहा। जांच पूरी होने के बाद विमान को पूरी तरह जांच के बाद उड़ाने के लिए रवाना किया गया। डुमना एयरपोर्ट के प्रभारी निदेशक वी के सूरी ने बताया कि विमान रनवे पर अनियंत्रित होने की मामले में डीजीसीए स्तर पर जांच की गई है। रिपोर्ट भी संबंधित विमानन कंपनी को देकर कार्रवाई की गई है।