Jabalpur News : नकली सोने के सिक्के थमाकर कारोबारी से ठग लिए लाखों रुपए, मामला दर्ज

Amit Sengar
Published on -

Jabalpur Crime News : जबलपुर के एक लोहा व्यापारी को एक महिला और दो पुरुष ने नकली सोने के सिक्के देकर लाखों रुपए की ठगी कर डाली। पीड़ित व्यापारी ने गोहलपुर थाने में शिकायत की है।

यह है मामला

गोहलपुर निवासी लोहे का व्यापार करने वाले मोहम्मद हारून ने पुलिस को बताया कि 1 फरवरी को एक व्यक्ति मोहन नाम का आया और सिक्का दिखाते हुये कहने लगा के यह सिक्का उसे बैंक से बदलना है, बैंक कहा पर पड़ेगा, इस पर मोहम्मद हारून ने कहा कि हमें नही पता बैंक कहा है। अगले दिन व्यक्ति फिर व्यापारी के पास पहुंचा और 5 सोने के सिक्के दिखाए और कहा कि यह चोरी का नही है, हम दो भाई है इंदौर में जेसीबी चलाने का कार्य करते हैं और वहां पर एक कच्चा मकान तोड़ते वक्त हमें सिक्के के साथ कुछ पीला- पीला भी मिला है। मोहन नाम के व्यक्ति ने इसको बेचकर कुछ नया काम चालू करना है। अगले दिन मोहन एक अन्य व्यक्ति तथा एक महिला को लेकर आया जो कि भाई एवं महिला को अपनी बहन बताया। इसके बाद इन लोगो ने उसका दिमाग बाँध दिया और कहने लगे ये काम आप ही कर सकते हो आपके सिवा किसी पर भरोसा नही है और चार पाँच सोने के सिक्के जिसमे भगवान की मूर्ति बनी थीं, चैक कराने के लिये उसेे दिया था। जिसको उसनेे चेक कराया तो असली सोना निकला इसके बाद ठग ने कहा कि हमें 20 लाख रुपये दे दो तो व्यापारी ने 13 लाख में बात तय की।

ठग ने बोला रुपए तैयार रखना 04 फरवरी को आएंगे जब वह लोग नही आये तो उसने उनसे फोन पर बात की और बोले की पैमेंट का इंतेजाम करके रखिए हम आते है। 5 फरवरी को महिला और दो पुरुष पहुंचे। 6 लाख 50 हजार रूपये का इंतजाम करने के बाद मोहम्मद ने अपने बेटे को उसी दिन बैंक भेज दिया, बेटा एकाउंट से 7 लाख 50 हजार रूपये निकाल कर लाया जिसे मिलाकर 14 लाख रूपये हुए और उसने वह दोनों युवक और महिला को दे दिए, ठगों ने सोने की थैली व्यापारी को दी और चले गये। दुकान बंद करके व्यापारी सोने के सिक्के जब सुनार से चेक करवाया तो पता चला सब नकली है। इस शिकायत पर पुलिस आरोपियों के विरूद्ध धारा 420, 34 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया।
जबलपुर से संदीप कुमार की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News