Jabalpur News : कोरोना बता कर करा रहे थे युवती का इलाज, मौत के बाद सच आया सामने, पढ़िए पूरी खबर

कोरोना बता कर करा रहे थे युवती का परिजन इलाज करा रहे थे। इलाज के बाद में हकीकत सामने आई।

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर (Jabalpur) के कुंडम में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। जहां एक परिवार के लोगों द्वारा युवती का कोरोना सस्पेक्टेड (corona suspected ) बता कर इलाज कराया जा रहा था। लेकिन हकीकत कुछ और ही थी। दरअसल युवती के द्वारा जहर (poison) खाकर आत्महत्या (suicide) करने की कोशिश की गई थी। जिसके बाद परिजन उसका कोविड का इलाज विक्टोरिया में करा रहे थे। इलाज के दौरान यह बात सामने आई लेकिन जब तक युवती की हालत बहुत ज्यादा बिगड़ गई थी। जिसके बाद शनिवार को युवती ने डैम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें…Sex Racket: MP में सेक्स रैकेट का खुलासा, ग्राहक बन पहुंची पुलिस, आपत्तिजनक हालत में कई गिरफ्तार

युवती ने खाया था जहर
कुंडम थाना प्रभारी प्रताप मरकाम ने बताया कि दमौड़ी गांव निवासी 24 वर्षीय गायत्री बैगा ने 7 जून को घर पर ही जहर खा लिया। उल्टी होने पर पिता सुम्मत सिंह उसे विक्टोरिया जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। परिजनों के द्वारा युवती के जहर खाने की बात छुपाई गई। और डॉक्टरों को गुमराह करते हुए युवती को कोरोना होना बताय गया। परिजनों ने बताया कि उसे कुछ दिनों से सर्दी-बुखार था। अब उलटी-दस्त से पीड़ित है। चिकित्सक ने बताए गए लक्षणों के आधार पर उसे कोविड सस्पेक्टेड वार्ड में भर्ती करा दिया।

इलाज के बावजूद लड़की की हालत बिगड़ती चली गई। अस्पताल की ओर से कोविड की जांच कराई गई, तो वो भी निगेटिव आई। उधर, युवती की हालत गंभीर चली गई। उसका पूरा शरीर नीला पड़ गया। चिकित्सकों को शक हुआ तो परिजनों से पूछताछ की गई। जिसके बाद सच सामने आया। हालांकि युवती की हालत काफी बिगड़ चुकी थी। और गायत्री की शनिवार रात को मौत हो गई। अस्पताल की सूचना पर ओमती पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम (post mortem) कराया। जीरो पर मर्ग कायम कर रविवार 13 जून को केस डायरी कुंडम थाने को ट्रांसफर किया गया है।

यह भी पढ़ें…इटारसी में जर्जर हो चुके मकानों को खाली कराएगा प्रशासन, जल्द तोड़े जाएंगे मकान- एसडीएम