जबलपुर: अब केंद्रीय जेल के कैदी बनाएंगे कोरोना वायरस से निपटने के लिए मास्क

जबलपुर। संदीप कुमार. कोरोना वायरस को लेकर जबलपुर जिला प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है। जिले के सभी शासकीय एवं निजी स्कूलों में अगले आदेश तक के लिए जहां छुट्टी कर दी गई है वहीं अस्पतालों में भी वायरस से निपटने के लिए आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं। इधर जबलपुर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस केंद्रीय जेल के कैदी आम जनता के लिए मास्क बनने की तैयारी कर रहे हैं।स्वास्थ्य विभाग ने जेल के अधिकारियों से मदद की मांग की है। नेताजी सुभाष चंद्र बोस केंद्रीय जेल में सजा काट रहे बंदी सूती कपड़ों से 3 लेयर वाले मास्क बनाएंगे। यह मास्क कोरोना वायरस जैसी घातक बीमारी के रोकथाम में काम आएगा। कोरोना वायरस को लेकर विश्वव्यापी चिंता की वजह से अचानक ही स्थानीय बाजारों में मास्क की मांग बढ़ गई है और इन मास्क की पूर्ति करने के लिए केंद्रीय जेल में सजा काट रहे बंदियों की स्वास्थ्य विभाग मदद लेगा।कोरोना वायरस को लेकर अचानक मास्क के दामों में आए अंतर को देखते हुए विशेषज्ञ चिकित्सकों की सलाह पर केंद्रीय जेल की कैदियों से इसे बनवाने की पहल कलेक्टर भरत यादव ने की है। हाल ही में कलेक्टर भरत यादव ने केंद्रीय जेल से बनकर आए मास्क के सैंपल भी देखे थे।जिसके बाद उन्होंने केंद्रीय जेल के बंदियों के साथ-साथ आजीविका परियोजना के तहत गठित महिला स्व सहायता समूह, खादी ग्राम उद्योग बोर्ड एवं स्थाई रेडीमेड गवर्नमेंट निर्माताओं से भी मास्क बनवाने के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए हैं। केंद्रीय जेल में बने मास्क की कीमत काफी कम होगी और यह आसानी से शासकीय एवं निजी अस्पतालों में उपलब्ध भी रहेंगे।