जबलपुर : पाले ने किसानों की फसल को किया बर्बाद, जिला प्रशासन से सर्वे कर मुआवजे की मांग

किसान अब अपनी खराब फसल को देखकर खून के घूट पीने को मजबूर है।

जबलपुर, संदीप कुमार। प्रदेश में बढ़ती सर्दी ने जन जीवन को अस्त व्यस्त कर दिया है, खास तौर पर ठंड में सबसे ज्यादा किसान परेशान है क्योंकि उनकी मेहनत से उगाई गई फसलों को पाले ने खराब कर दिया है, लिहाजा किसानों ने जिला प्रशासन से सर्वे कर मुआवजे की मांग की है।

यह भी पढ़े… खंडवा : भाजपाइयों ने पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह और कमलनाथ का पुतला फूंका, पुतले की आग से बाल बाल बचे भाजपा कार्यकर्त्ता

बता दें कि जबलपुर के आदिवासी बहुल इलाके के कई गाँव मे लगी फसल पाले की भेंट चढ़ गई है,लिहाजा किसानों ने जिला प्रशासन से सर्वे कर मुआवजे की मांग की है, जबलपुर के कुंडम में बीते दो दिनों से पड़ रही कड़ाके की ठंड ने किसानों के ऊपर गाज गिराई है, कुंडम के लखनवारा-सरोली-छाताबेली गाँव सहित आसपास लगी खड़ी फसल पाले से बर्बाद हो गई है,ठंड ने सबसे ज्यादा अरहर-मटर-मसूर की फसलों को बर्बाद किया है।

यह भी पढ़े… Jobs : सैमसंग डिस्प्ले प्राइवेट लिमिटेड ने निकाली बम्पर भर्ती, 28 को अप्रेन्टिसशिप ड्राइव

किसान हूकूम लाल बताते है कि उन्होंने 22 एकड़ में अरहर की फसल लगाई थी,फसल अच्छी भी हुई पर बीते दो दिनों से पड़ रहे पाले ने पूरी फसल को बर्बाद कर दिया है,अरहर की तो पूरी फसल पाले के कारण सूख गई है, ऐसे में किसान अब अपनी खराब फसल को देखकर खून के घूट पीने को मजबूर है।

यह भी पढ़े…Jobs : सैमसंग डिस्प्ले प्राइवेट लिमिटेड ने निकाली बम्पर भर्ती, 28 को अप्रेन्टिसशिप ड्राइव

ग्राम छाताबेली निवासी किसान सूरज प्रसाद ने भी अपने खेत मे अरहर-मसूर लगाई हुई थीं, मसूर की फसल में फूल भी आ गए थे पर इसी समय पड़े पाले ने उनकी मसूर की फसल को बर्बाद कर दिया,अब मौसम से परेशान किसानो के सामने सिर्फ जिला प्रशासन से मदद की आस है,हम आपको बता दे कि जिले का कुंडम क्षेत्र आदिवासी बहुल ईलाका है जहाँ की ज्यादातर लोग फसलों पर ही आश्रित है।