पुलिस ने सुलझाई मर्डर मिस्ट्री, पांच आरोपी गिरफ्तार,दो की तलाश जारी

जबलपुर, संदीप कुमार। जिले के ग्राम रमनपुर रोड टेढिया नाला के किनारे मिली दो युवकों की लाश के मामले को बरगी थाना पुलिस ने सुलझाते हुए पांच आरोपियो को गिरफ्तार किया है। जबकि दो आरोपी फरार बताए जा रहे है। दर्शल बरगी थाना पुलिस को सूचना मिली थी कि रमनपुर से कुछ दूर नाले के पास दो युवक मृत अवस्था में पडे हुये है, साथ ही पास में एक मोटर साईकिल पड़ी हुई है । सूचना पर बरगी थाना प्रभारी शिवराज सिंह अपने स्टाफ के साथ मौके पर पहुंचे । दोनों युवकों की पतासाजी की गयी तो उनका नाम बल्देव मरावी एवं राजकुमार विश्वकर्मा पता चला।घटनास्थल के निरीक्षण पर मिले दोनों शवों एवं मोटर साइकिल को देखते हुए पुलिस को घटना संदिग्ध लगती है। जिसके बाद अति. पुलिस अधीक्षक ग्रामीण शिवेश सिंह बघेल एवं एफ.एस.एल. टीम मौके पर पहुंची एवं घटना स्थल का निरीक्षण करते हुये शवों को पीएम हेतु भिजवा गया।

शार्ट पी.एम. रिपोर्ट में मृतक बल्देव मरावी एवं राजकुमार विश्वकर्मा की मृत्यु चोटें आने से होना पाया गया। इसी बीच मुखबिर से बरगी पुलिस को सूचना मिली कि दोनों मृतक विशाल ढाबा जो कि वर्तमान में बंद है उसी के गडे हुये टैंक में गिरे थे। जानकारी लगते ही विशाल ढाबा जो कि विशाल चैकसे का है, जो बंद पडे विशाल ढाबा में भी अपने भतीजे मोनू उर्फ आदित्य चैकसे के साथ रहता है। जिसके बाद पुलिस ने विशाल चैकसे एवं मोनू उर्फ आदित्य से सघन पूछताछ की, तो पता चला कि 20 सितंबर 2020 को शाम लगभग 4 बजे ढाबा के पीछे गडे़ हुये दो टैंकों को साफ करने की बात ढाबा में रहकर काम करने वाल बल्देव मरावी एवं राजकुमार विश्वकर्मा से की तो देानों तैयार हो गये, और बल्देव मरावी ने टैंक मे घुसने के लिये जैसे ही टैक का ढक्कन खोला अनियंत्रित होकर टैंक के अंदर गिर गया।

बल्देव मरावी के चिल्लाने पर बल्देव को बचाने के लिये टैंक के अंदर राजकुमार घुसा था, आवाज लगाने पर दोनों के द्वारा कोई आवाज नहीं दी गयी तो ढाबे में काम करने वाले मंगल विश्वकर्मा, रमन उईके, उधम विश्वकर्मा , निरंजन एवं छोटू उर्फ राजेन्द्र आ गये, सभी ने टैंक में गिरे बल्देव मरावी एवं राजकुमार विश्वकर्मा को बाहर निकालकर देखा जो हिल डुल नहीं रहे थे। तब विशाल चैकसे एवं भतीजे मोनू चैकसे ने प्लानिंग की कि दोनों को बलदेव की मोटर साइकिल को टिढिया नाला के ढलान में डाल देते हैं, जिससे सभी को यह प्रतीत हो कि एक्सीडेंट होने के कारण आयी चोटों से उनकी मृत्यु हुई है। योजना के मुताबिक विशाल एवं मोनू चैकसे ने मंगल विश्वकर्मा, रमन उईके, निरंजन, उधम विश्वकर्मा, छोटू उर्फ राजेन्द्र  की मदद से एक्टीवा से बल्देव, एवं राजकुमार विश्वकर्मा  को टिढिया नाला में लगभग 30 फिट नीचे डाल दिये, तथा मोटर साइकिल टेढिया नाला की ढलान में नीचे छोड दिया गया। जांच में विशाल चैकसे, मोनू उर्फ आदित्य चैकसे द्वारा यह जानते हुये कि टैंक में उतारने से चोट लग सकती है, जान भी जा सकती है, किसी भी प्रकार की और सुरक्षा के उपाय नहीं किये गये, तथा बिना सुरक्षा उपाय टैंकरों को साफ करने हेतु उतारा जाना पाया जाने पर आरोपियों के विरूद्ध विभिन्न धाराओं के तहत अपराध पंजीबद्ध कर आरोपी विशाल चैकसे, मोनू उर्फ आदित्य चैकसे, मंगल विश्वकर्मा, रमन उईके, उधम उर्फ राजकुमार विश्वकर्मा की प्रकरण मे विधिवत गिरफ्तारी की गयी है, वहीं फरार निरंजन एवं छोटू उर्फ राजेन्द्र की तलाश जारी है।