जबलपुर : पुलिसकर्मियों ने की लूट, युवक को बनाया बंधक, एसपी ने किया चारों को निलंबित

शहर के क्राइम ब्रांच और यातायात के चार जवानों ने दो युवकोें से लूटे 50 हजार, फिर युवकों को बंधक बनाया और पांच लाख वसूलने के बाद छोड़ा, सीसीटीवी में कैद हुई करतूत, एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने किया चारों को निलंबित

जबलपुर, डेस्क रिपोर्ट। जबलपुर पुलिस का कारनामा सामने आया है, यहाँ क्राइम ब्रांच और यातायात थाने में पदस्थ चार जवानों ने मोबाइल एसेसरीज कारोबारी के कर्मचारियों से मारपीट कर 50 हजार रुपये लूट लिए और उसके बाद और रुपयों की डिमांड करते हुए उन्हें बंधक बनाते हुए गोदाम में बंद कर दिया। इसके बाद इन पुलिसकर्मियों ने कर्मचारियों को छोड़ने के लिए उनके मालिक यानि की कारोबारी से आठ लाख रुपये की मांग की। काफी मान मुनव्वल के बाद पांच लाख रुपये में सौदा तय हुआ। इसके बाद इस कारनामे में शामिल एक जवान ने यह रकम नौदराब्रिज स्थित मुन्ना पान दुकान में पहुंचाने के लिए कहा। पांच लाख रुपये वहां पहुंचने के बाद गोदाम में बंधक बने कर्मचारियों को छोड़कर पुलिस जवान वहां से चले गए। इस घटना के बाद कारोबारी ने जबलपुर एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा को इसकी शिकायत की और जब पुलिस ने जांच की तो मामले का खुलासा हुआ।

यह भी पढ़ें…. शिक्षकों के लिए खुशखबरी, मानदेय में 1 हजार की बढ़ोतरी, खाते में आएगी इतनी राशि 

एसपी ने इस मामले की गंभीरता को समझते हुए जांच में पुलिसकर्मियों की करतूत सामने आते ही शिकायत सामने आते ही  क्राइम ब्रांच के कार्यवाहक एएसआइ ओमप्रकाश मिश्रा, प्रधान आरक्षक राधेश्याम, प्रधान आरक्षक ओम नारायण, थाना यातायात गढ़ा में पदस्थ आरक्षक रोहित द्विवेदी को निलंबित करते हुए लाइन हाजिर कर दिया गया है। इस पूरी घटना की पोल सीसीटीवी कैमरों ने खोली, जो घटनास्थल पर लगे थे, पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों के फुटेज जब्त किए है।

यह है मामला-

मोबाइल एसेसरीज कारोबारी ललित गोस्वामी ने पुलिस को बताया कि क्राइम ब्रांच के तीन व यातायात थाने के एक जवान ने स्वयं को क्राइम ब्रांच की टीम बताकर उससे आठ लाख रुपये की मांग की थी। दुकान कर्मचारी से पहले ही 50 हजार रुपये छीने जा चुके थे। मोलभाव करते हुए पांच लाख रुपये में सौदा तय हुआ। ललित ने पुलिस को बताया कि आरक्षक रोहित द्विवेदी ने पांच लाख रुपये नौदराब्रिज स्थित मुन्ना पान दुकान पर पहुंचाने के लिए कहा। पांच लाख रुपये वहां पहुंचाने के बाद गोदाम में बंधक बने उसके कर्मचारियों को छोड़ा गया। यह भी पता चला कि रोहित ने पांच लाख रुपये मुन्ना पान दुकान से उठवा लिए थे। पुलिस ने पान दुकान संचालक सलमान को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। गोस्वामी ने कहा कि दुकान कर्मचारियों को गांजा के प्रकरण में फंसाने की धमकी दी गई थी इसलिए उसे पांच लाख में सौदा करना पड़ा। फिलहाल पुलिसकर्मियों के ही द्वारा लूट के इस मामले के सामने आने के बाद हड़कंप की स्थिति बनी हुई है।